19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
अमेरिकी कंपनी ने हिंदू समुदाय से मांगी माफी
16-05-2012

वाशिंगटन। अमेरिका में एक कंपनी ने अपनी बीयर का नाम काली मांके नाम पर रखा है। इसे लेकर राज्यसभा में विपक्ष ने मंगलवार को कड़ी आपत्ति जताई। भाजपा ने इसे हिंदू आस्था से खिलवाड़ बताया। उसने सरकार से मांग की कि वह अमेरिकी राजदूत को बुलाकर इस मामले में जवाब-तलब करे। इस बीच, अमेरिकी कंपनी ने हिंदू समुदाय से माफी मांगते हुए बीयर का नाम बदलने की घोषणा की है। अमेरिका में पोर्टलैंड स्थित कंपनी बर्नसाइड ब्रेविंग यह बीयर बेच रही है। इसकी बोतल पर काली मां का चित्र दिया गया है। भाजपा के रविशंकर प्रसाद ने राज्यसभा में शून्यकाल के दौरान यह मसला उठाया था। उन्होंने कहा कि अमेरिका में हिंदू भावनाओं के अपमान का यह पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी वहां अंत:वस्त्रों पर हिंदू देवी-देवताओं के चित्र बनाए गए थे। उन्होंने कहा कि एक ओर केंद्र सरकार अमेरिका से अच्छे संबंधों का दावा करती है। लेकिन वहां ऐसी चीजों को रोकने के लिए कोई मानक या आचार संहिता नहीं हैं। प्रसाद ने कहा कि अमेरिकी राजदूत को तलब कर विरोध प्रकट करना चाहिए और अमेरिका को इस मामले में माफी मांगनी चाहिए। इस पर भाजपा व अन्य सदस्यों के तेवर देख संसदीय राज्यमंत्री राजीव शुक्ला ने आश्वासन दिया कि वे विदेश मंत्री एसएम कृष्णा को सदस्यों की भावना से अवगत करा देंगे।कंपनी ने किया नाम बदलने का ऐलान अमेरिकी कंपनी बर्नसाइड ने कहा है कि भारतीय मसालों से युक्त बीयर का नामकाली मांरखने का उद्देश्य किसी समुदाय की भावनाओं को ठेस पहुंचाना नहीं था। कंपनी ने फेसबुक पर कहा है कि अनजाने में हिंदुओं की धार्मिक भावना को ठेस पहुंची हो तो कंपनी माफी मांगती है। कंपनी ने कहा है कि अब बीयर इस नाम से बाजार में नहीं जाएगी। कंपनी ने इसका नाम बदलने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।