24 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
अमेरिका ने छोटा शकील और टाइगर मेमन पर लगाया प्रतिबंध
17-05-2012

वाशिंगटन। अमेरिका ने अंडरवल्र्ड सरगना दाऊद इब्राहिम के दो गुर्गो पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की है। मादक पदार्थो के प्रमुख तस्कर छोटा शकील (57) और टाइगर मेमन (52) पर प्रतिबंध लगाए गए हैं। इनके खिलाफ किंगपिन अधिनियमके तहत प्रतिबंध लगाए गए हैं। प्रतिबंध के तहत दोनों से कोई भी अमेरिकी व्यक्ति वित्तीय या व्यावसायिक लेन-देन नहीं कर सकता। यदि शकील और मेमन की कोई संपत्ति अमेरिका के अधिकार क्षेत्र में होगी तो उसे भी प्रतिबंध के तहत जब्त कर लिया जाएगा।अमेरिकी वित्त विभाग के विदेशी संपत्ति नियंत्रण कार्यालय ने शकील और मेमन पर डी कंपनीमें उनकी भूमिका के लिए यह कदम उठाया। दाऊद के गिरोह को डी कंपनीके नाम से जाना जाता है। विभाग के निदेशक एडम जुबिन ने कहा कि अमेरिका दक्षिण एशिया में अपराध और आतंकवाद के गठजोड़ को निशाना बनाता रहेगा। यह प्रतिबंध में इस दिशा में पहला कदम है। दाऊद को अक्टूबर 2003 में अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित किया गया था। उसे जून 2006 में प्रमुख विदेशी नशे के सौदागर बताया गया। जून 2006 में ही डी कंपनी को मादक पदार्थो का प्रमुख विदेशी तस्कर संगठन घोषित किया गया था। दाऊद और उसका संगठन 80 के दशक से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मादक पदार्थो की तस्करी में लगा है।भारत ने किया स्वागतछोटा शकील और टाइगर मेमन के खिलाफ अमेरिकी कार्रवाई का भारत ने स्वागत किया है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सैयद अकबरूद्दीन ने कहा, ‘हम ऐसे कदमों का स्वागत करते हैं। क्योंकि यह उसी की पुष्टि है जो हम हमेशा से कहते आ रहे हैं कि नारकोटिक आतंकवाद केवल भारत के लिए ही नहीं, बल्कि दुनियाभर के लिए खतरा है। इस तरह का कोई नाम दिए जाने से संकेत मिलता है कि इन लोगों को न्याय के कठघरे में लाने के लिए भारत से बाहर भी लोगों की मंशा है।उन्होंने पाकिस्तान की ओर इशारा करते हुए कहा, ‘हम यह अनुरोध भी करते हैं कि इन लोगों को सहारा देने वाले देश को भी अब उन्हें न्याय के दायरे में लाना चाहिए।भारत कहता रहा है कि ये तीनों पाकिस्तान में हैं और इस्लामाबाद को दी गई सर्वाधिक वांछितलोगांे की सूची में उनके नाम हैं।छोटा शकील और मेमन का काम छोटा शकील डी कंपनी के लिए अन्य आपराधिक और आतंकवादी संगठनों के साथ समन्वय का काम करता है। दाऊद का विश्वसनीय सहयोगी टाइगर मेमन दक्षिण एशिया में गिरोह के बिजनेस को देखता है। इंटरपोल ने दोनों की गिरफ्तारी के लिए रेड कॉर्नर नोटिस जारी कर रखा है। मेमन 1993 के मुंबई बम धमाकों में भी वांछित अपराधी है।