24 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
बदलाव की रूपरेखा अफगान में तैयार होगी
21-05-2012

वाशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है कि शिकागो में नाटो शिखर सम्मेलन अफगानिस्तान में अगले दौर के बदलाव की रूपरेखा तैयार करेगा। सम्मेलन के उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए ओबामा ने रविवार को कहा कि अफगानिस्तान में अगले दौर के बदलाव की रूपरेखा तैयार करने के लिए अगले दो दिन में हम पहले अपने नाटो सहयोगियों तथा उसके बाद अफगानिस्तान के राष्ट्रपति हामिद करजई तथा अपने अंतरराष्ट्रीय सहयोगियों से मिलेंगे। उन्होंने कहा कि हमने अपनी साझा सुरक्षा के लिए त्याग किया है और अपने मिशन को पूरा करने के लिए हम एकजुट और प्रतिबद्ध होकर काम करेंगे। सम्मेलन में 60 से अधिक देशों के नेता भाग ले रहे हैं। ओबामा ने कहा कि नाटो के पड़ोसी देशों तथा अंतरराष्ट्रीय सहयोगियों से मुलाकात को लेकर मेरा नजरिया सकारात्मक है। ये सहयोगी अफगानिस्तान तथा लीबिया में नाटो कार्रवाई में खासे महत्वपूर्ण हैं। यह फिर से ध्यान में रखने की जरूरत है नाटो वैश्विक सुरक्षा सहयोगियों के नेटवर्क का वैश्विक हब है.। ओबामा ने कहा कि पिछले करीब 65 साल से एलायंस साझा सुरक्षा, आजादी तथा समृद्धि के लिए मजबूत आधार है। उन्होंने कहा कि समय में बदलाव आया है लेकिन गठबंधन के मूल कारणों में कोई बदलाव नहीं आया है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा है, 'जब हम एकजुट और साथ हैं हमारा देश ज्यादा मजबूत और समृद्ध होगा। बेहतर और बुरे दौर में हमारा गठबंधन मजबूत रहा है..। उन्होंने कहा के हमने बाल्कन में इसे शीत युद्ध से लेकर अफगानिस्तान और लीबिया में देखा है। और हमें इस भावना को यहा शिकागो में बनाए रखने की जरूरत है..। उन्होंने कहा कि लिस्बन बैठक के दौरान अमेरिका तथा उसके सहयोगी देश गठबंधन को नई जान फूंकने के लिए कार्य योजना पर सहमत हुए हैं। नाटो के महासचिव एंडर्स फोग रासमुसेन ने कहा कि दो दिवसीय नाटो शिखर सम्मेलन की तीन प्राथमिकताएं..अफगानिस्तान को सुरक्षित रखना, नाटो को मजबूत बनाना तथा वैश्विक नेटवर्क तथा सहयोगियों को मजबूत बनाना है।