19 February 2019



खेलकूद
म्यूनिख का सपना चेल्सी ने तोड़ा
21-05-2012

म्यूनिख [जर्मनी]। चेल्सी फुटबाल क्लब ने शनिवार को यहां बायर्न म्यूनिख का सपना तोड़कर उसके घरेलू स्टेडियम में पहला चैंपियंस लीग खिताब जीतकर इतिहास रचा जिसमें दिदिएर द्रोग्बा नायक रहे। बायर्न एलियांज एरीना में खचाखच भरे स्टेडियम में 120 मिनट में परिणाम नहीं निकल सका क्योंकि दोनों टीमें 1-1 से बराबरी पर थी। जिसके बाद द्रोग्बा ने शूट आउट की निर्णायक पेनल्टी में गोल कर चेल्सी को खिताब जीतने में मदद की। द्रोग्बा ने 88वें मिनट में बराबरी गोल दागकर चेल्सी को बचाया था क्योंकि इससे पहले लग रहा था कि बायर्न म्यूनिख के लिए थामस मूलर का गोल निर्णायक साबित होगा। जिससे दोनों टीमें 90 मिनट के मैच के बाद 1-1 से बराबरी पर थी। बायर्न म्यूनिख के लिए यह हार काफी निराशाजनक रही जिसमें उनके मिडफील्डर बास्टियन श्वेंस्टाइगर अंतिम किक में चूक गए जिससे द्रोग्बा को चेल्सी के महान खिलाड़ियों की सूची में स्थान पक्का करने का मौका मिला। चेल्सी के गोलकीपर पेट्र चेच भी उसके लिए एक और हीरो रहे जिन्होंने अतिरिक्त समय में बायर्न की पेनल्टी में आर्एन रोबेन के शाट को विफल किया और टीम को शूट आउट में पहुंचाने में मदद की। द्रोग्बा के लिए विजयी स्पॉट किक बेहतरीन रही और आईवरी के इस 34 वर्षीय स्ट्राइकर के लिए यह शाट परीकथा के अंत की तरह रहा क्योंकि उन्हें चार साल पहले मास्को में चैंपियंस लीग के फाइनल के दौरान अंतिम मिनटों में मैदान से बाहर कर दिया गया था जिसमें चेल्सी को हार मिली थी। द्रोग्बा ने कहा किम मास्को में यह काफी कठिन रहा था क्योंकि खिलाड़ियों, क्लब और प्रशंसकों के लिए यह काफी दर्दनाक था। आज हम इसे बदलने में सफल रहे और यह मैच काफी रोमांचक रहा। उन्होंने कहा कि मैं चेल्सी को खुशी देना चाहता था इसलिए मैं खुश हूं कि हम प्रशंसकों के चेहरे पर मुस्कुराहट लाने में सफल रहे। चेल्सी के लिए यह जीत शानदार रही जिसका भाग्य रोबर्टो डि माटियो की नियुक्ति के बाद बदल गया जिन्हें मार्च में आंद्रे विलास बोआस की बर्खास्तगी के बाद अंतरिम मैनेजर नियुक्त किया गया था। डि माटियो ने क्लब को 15 दिन के अंदर ही चैंपियंस लीग और एफए कप के खिताब दिला दिए हैं जिससे अब वह क्लब के पूर्णकालिक मैनेजर के प्रबल दावेदार लग रहे हैं। चेल्सी क्लब ने पहली बार यूरोपीय खिताब अपने नाम किया जिसका मतलब है कि अब वे टूर्नामेंट के विजेता के तौर पर अगले सत्र की चैम्पियंस लीग के लिए क्वालीफाई हो जाएंगे, भले ही उनका लीग अभियान खराब रहा हो। वहीं इस हार से बायर्न म्यूनिख का पांचवां यूरोपीय खिताब जीतने का सपना चकनाचूर हो गया। बायर्न के कोच जुप हेनकेक्स ने स्वीकार किया, हमने कई मौके गंवाए। उन्होंने कहा कि हम ओवरआल अच्छा खेले और ज्यादातर समय गेंद हमारे खिलाड़ियों के पास थी। मूलर ने सातवें मिनट में बायर्न को बढ़त दिला दी थी लेकिन द्रोग्बा ने 88वें मिनट में स्कोर 1-1 से बराबर कर दिया। अतिरिक्त समय में बायर्न के पूर्व चेल्सी विंगर रोबेन पेनल्टी से चूक गए जिसका चेच ने शानदार बचाव किया। यह पेनल्टी द्रोग्बा के फ्रैंक रिबेरी को बेवजह गिराने के लिए मिली थी। मैच के दौरान बायर्न ने 35 बार गोल करने के प्रयास किए जबकि चेल्सी ने नौ बार कोशिश की।