19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
ईरान एटमी करार पर जल्द दस्तखत कर सकता है : आईएईए
23-05-2012

वियना। अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (आईएईए) के प्रमुख युकिया अमानो ने उम्मीद जताई है कि ईरान अपने विवादास्पद परमाणु कार्यक्रम पर जांच में सहयोग के लिए एक समझौते पर शीघ्र हस्ताक्षर कर देगा। अमानो ने ईरान के साथ इस मसले पर बातचीत के एक दिन बाद मंगलवार को यह बात कही। बुधवार से तेहरान व छह विश्व शक्तियों के बीच इस संबंध में व्यापक वार्ता शुरू होने वाली है।अमानो ने कहा, ‘इस मामले में अंतिम निर्णय और समझौते पर हस्ताक्षर के लिए सहमति बन गई है। मैं कह सकता हूं, बहुत जल्द इस समझौते पर हस्ताक्षर होंगे।अमानो को उम्मीद है कि इस मसले पर समझौते के बाद जांचकर्ता स्वतंत्र होकर ईरान के विवादित परमाणु कार्यक्रम के मामले में छानबीन कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि तेहरान के साथ सोमवार को हुई बातचीत सकारात्मक रही है। अमानो ने कहा कि बातचीत के दौरान कुछ मतभेद रहे लेकिन ईरान की ओर से वार्ता का नेतृत्व कर रहे सईद जलीली ने कहा कि मतभेद समझौते के बीच किसी तरह का रोड़ा नहीं बनेंगे। ईरान और दुनिया के छह शक्तिशाली देशों (पी5+1) के वरिष्ठ अधिकारियों के बीच ईरान के परमाणु कार्यक्रम पर बगदाद में बुधवार को बातचीत होगी। जलीली ईरान की ओर से वार्ता में शामिल होंगे। आईएईए प्रमुख ने कहा कि उन्होंने बातचीत के दौरान ईरानी अधिकारियों के साथ पारचिन सैन्य ठिकाने का मुद्दा भी उठाया। अमानो ने कहा कि उन्होंने अधिकारियों से कहा कि आईएईए प्राथमिकता के आधार पर पारचिन सैन्य ठिकाने की जांच करना चाहता है। उन्होंने कहा कि समझौते के क्रियान्वयन के बाद ही इस संबंध में विस्तृत जानकारी दी जाएगी।अमेरिकी सीनेट ने लगाया जुर्माना ईरान को आर्थिक रूप से कमजोर करने और उसके परमाणु उद्देश्यों पर लगाम लगाने के लिए अमेरिकी सीनेट ने तेहरान पर नया कड़ा जुर्माना लगाने को मंजूरी दी है। विधेयक के तहत ईरान के रिवॉल्युशनरी गार्ड काप्र्स को निशाना बनाया जाएगा। साथ ही जो कंपनियां अमेरिकी स्टॉक एक्सचेंज के माध्यम से व्यापार करती हैं, उन्हें बताना होगा कि क्या वे ईरान के साथ भी व्यवसाय करती हैं अथवा नहीं। तेहरान के साथ संयुक्त उपक्रम के तहत ऊर्जा एवं यूरेनियम का व्यवसाय करने वाली कंपनियों पर भी जुर्माना लगेगा। उन कंपनियों और व्यक्तियों को वीजा नहीं मिलेगा जो ईरान को प्रौद्योगिकी की आपूर्ति करते हैं।