19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
पाक डॉक्टर को लादेन की खोज में मददगार होने पर 33 साल की कैद
24-05-2012

इस्लामाबाद। पाकिस्तानी कोर्ट ने डॉक्टर शकील अफरीदी को बुधवार को 33 साल की कैद और 3.2 लाख रुपए जुर्माने की सजा सुनाई है। अफरीदी ने अल कायदा सरगना ओसामा बिन लादेन को पाकिस्तान में ढूंढ़ निकालने में अमेरिका की मदद की थी। कोर्ट ने ब्रिटिश काल के कबायली कानूनों के तहत उन्हें देशद्रोह का दोषी माना है। इस कानून के अंतर्गत सुनवाई के बाद कोर्ट ने वहां की स्थानीय कबायली परिषद जिरगा की सहमति भी हासिल की। अफरीदी को पेशावर जेल भेज दिया गया है। इस ताजा मामले से अमेरिका से पाक के रिश्तों में तनाव और बढ़ सकता है जो मानता है कि अफरीदी ने पाक के हितों के खिलाफ कोई काम नहीं किया है। डॉक्टर अफरीदी पर सीआईए के लिए एबटाबाद में एक नकली वैक्सीन अभियान चलाने के साथ ही जासूसी करने का आरोप लगाया गया। इस अभियान का मकसद संदिग्ध परिसर में रह रहे लादेन के परिवार के किसी भी सदस्य का डीएनए हासिल करना था जिससे यह पुष्टि हो सके कि वहां लादेन छिपा हुआ है। इसके बाद दो मई को पिछले साल अमेरिकी कार्रवाई में लादेन मारा गया था। इसके तुरंत बाद अफरीदी को हिरासत में ले लिया गया था। पाकिस्तान सरकार ने डॉ. अफरीदी और उन्हें मदद करने वाले नर्सिग स्टाफ को पहले ही बर्खास्त कर दिया है। अमेरिकी अधिकारियों ने उम्मीद जताई है कि पाकिस्तान सरकार अफरीदी को जल्द रिहा कर देगी। अमेरिकी सांसदों ने ओबामा प्रशासन से अफरीदी को सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार देने की भी मांग की है।