24 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
मिस्र में ब्रदरहुड का बढ़त का दावा
25-05-2012

काहिरा। मिस्र में पहली बार राष्ट्रपति पद के लिए हुए स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव के बाद इस्लामी संगठन मुस्लिम ब्रदरहुड ने शुक्रवार को दावा किया कि दूसरे दौर के चुनाव में मुकाबला उसके उम्मीदवार मोहम्मद मुरसी और अपदस्थ तानाशाह की सरकार में प्रधानमंत्री रहे पूर्व वायुसेना प्रमुख अहमद शफीक के बीच होना लगभग तय है क्योंकि अब तक की मतगणना में मुरसी सबसे आगे हैं जबकि शफीक दूसरे स्थान पर हैं। मुस्लिम ब्रदरहुड के एक नेता ने कहा कि पहले दौर के मतदान की गणना में मुरसी 24 प्रतिशत मत हासिल करके पहले स्थान पर हैं जबकि 23 प्रतिशत मतों के साथ शफीक दूसरे स्थान पर हैं। इस्लामी अब्देल मुनीम अबोल फोतोह को 20 प्रतिशत मत मिले हैं जबकि वामपंथी हामदीन सबाही को 19 प्रतिशत मत हासिल हुए हैं। पहले दौर के चुनाव में किसी व्यक्ति को स्पष्ट बहुमत न मिलने की स्थिति में सबसे ज्यादा मत हासिल करने वाले ऊपर के दो प्रत्याशियों के बीच मुकाबले के लिए फिर से चुनाव कराए जाने के प्रावधान हैं। अगले दौर का मतदान 16 और 17 जून को होगा। दूसरे दौर के चुनाव की नौबत आई तो देश में फिर से उथल -पुथल शुरू हो जाने की संभावना है क्योंकि शफीक के विरोधियों ने धमकी दी है कि यदि पूर्व वायुसेना प्रमुख निर्वाचित हुए तो वे सड़कों पर उतर आएंगे। लेकिन शफीक के समर्थकों का कहना है कि उनके नेता के सैन्य पृष्ठभूमि का होने के कारण वह देश में शांति और कानून व्यवस्था बहाल कर सकते हैं। पिछले तीन दशकों से सत्ता पर काबिज मुबारक के हटने के 15 माह बाद देश की बहुसंख्य जनता की मांग भी यही है। शफीक के समर्थकों का यह भी कहना है कि शफीक के यह महत्वपूर्ण पद संभालने से शासनाध्यक्ष और शक्तिशाली सेना के बीच सम्बन्ध सहज रहेगा।

 


Add Fav