16 February 2019



खेलकूद
फुटबाल टीम के अगले कोच कोवरमान्स होंगे
25-05-2012
नई दिल्ली। हालैंड के पूर्व अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी विम कोवरमान्स का दो साल के लिए भारतीय फुटबाल टीम का मुख्य कोच बनना तय है। अखिल भारतीय फुटबाल महासंघ [एआईएफएफ] पिछले एक साल से इस पद के लिए कोच की खोज में जुटा था। एआईएफएफ ने पिछले साल के शुरू में इंग्लैंड के बॉब हाटन को बर्खास्त कर दिया था। इसके बाद अर्मांडो कोलासो और सैवियो मेडिरा को संक्षिप्त कार्यकाल के लिए रखा गया लेकिन वे टीम को खास सफलता नहीं दिला पाए। मेडिरा का कार्यकाल 31 मई को समाप्त हो रहा है। हालैंड के ही रोब बान को पिछले साल अक्टूबर में तकनीकी निदेशक नियुक्त किया गया था। उन्हें नए मुख्य कोच के खोज की जिम्मेदारी सौंपी गई थी और उन्होंने हमवतन कोवरमान्स को इस पद के लिए चुना। एआईएफएफ के उपाध्यक्ष एआर खलील ने कहा कि कोवरमान्स की नियुक्ति को अगले महीने के शुरू में कार्यकारी समिति की मंजूरी मिल जाएगी और यह पूर्व डच खिलाड़ी इसके तुरंत बाद अपना पद संभाल लेगा। उन्होंने कहा, 'कोवरमान्स की नियुक्ति लगभग तय है। अध्यक्ष [प्रफुल्ल पटेल] ने उनकी नियुक्ति को मंजूरी दे दी है। उन्होंने [कोवरमान्स] ने अनुबंध की शर्तों को मंजूर कर लिया हैं। कार्यकारी समिति की सात और आठ जून को होगी और वह अंतिम मंजूरी देगी।' खलील ने कहा, 'शुरू में उन्हें दो साल का अनुबंध दिया जाएगा और यदि उनके रहते हुए राष्ट्रीय टीम का प्रदर्शन संतोषजनक रहता है तो फिर उनका अनुबंध बढ़ाया जाएगा।' यदि 51 वर्षीय कोवरमान्स की नियुक्ति होती है तो उनके नेतृत्व में पहला टूर्नामेंट नेहरू कप खेला जाएगा जो यहां अगस्त में होगा। उनके लिए सबसे बड़ी चुनौती राष्ट्रीय टीम को पुनर्गठित करना होगा जो कुछ चोटी के खिलाड़ियों के जाने से बदलाव के दौर से गुजर रही है तथा उसकी फीफा रैंकिंग हाल में काफी नीचे गिर गई है। कोवरमान्स हालैंड की 1988 की यूरो चैंपियनशिप जीतने वाली टीम के सदस्य थे। वह हालांकि टूर्नामेंट में नहीं खेले थे। कोवरमान्स ने केवल एक अंतरराष्ट्रीय मैच खेला है। वह 2002 से 2008 तक हालैंड की युवा टीम के कोच रहे। उन्होंने वेस्ले श्नाइडर, रोबिन वान पर्सी और डर्क कुयट जैसे स्टार खिलाड़ियों को आगे बढ़ाने में अहम भूमिका निभाई है। वह अभी आयरलैंड फुटबाल संघ में इंटरनेशनल हाई परफोरमेन्स डाइरेक्टर और आयरिश अंडर-21 टीम के कोच हैं। वह 1990 में पेशेवर फुटबाल से संन्यास लेने के तुरंत बाद कोच बन गए थे। वह 1990 से 2000 तक हालैंड के विभिन्न क्लबों जैसे एफसी ग्रोनिजेन, आरबीसी रूसेनडाल, एनईसी निजेमेजेन और एमवीवी मास्ट्रिच्ट के कोच रहे। इस बीच हालैंड के ही रेमंड लिबरेट्स ने अंडर-22 राष्ट्रीय टीम और एआईएफएफ की टीम पैलान एरोज का कोच बनने से मना कर दिया। सूत्रों ने बताया कि आस्ट्रेलियाई आर्थस पापेस अंडर-22 राष्ट्रीय टीम और पैलान एरोज का कोच पद संभालेंगे। उन्हें हाल में नवी मुंबई स्थित एआईएफएफ की क्षेत्रीय अकादमी का प्रमुख नियुक्त किया गया था।