19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
सीरिया के राजनयिकों को किया निष्कासित
30-05-2012

लंदन। अमेरिका सहित आठ पश्चिमी देशों ने सीरिया के राजनयिकों को निष्कासित कर दिया है। सीरियाई शहर हाउला में 100 लोगों के नरसंहार की घटना के विरोध में यह कदम उठाया गया है।इन सभी देशों ने आपसी सहमति से यह कदम उठाया। अमेरिका के अलावा ऑस्ट्रेलिया, क नाडा, स्पेन, ब्रिटेन, इटली, फ्रांस और जर्मनी ने अपने यहां से सीरियाई राजनयिकों को बाहर निकालने फैसला किया।फैसले की घोषणा करते हुए अमेरिकी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता विक्टोरिया नूलैंड ने कहा, ‘हाउला के गांव में 25 मई को हुए नरसंहार के जवाब में अमेरिका ने यहां सीरिया के शीर्ष राजनयिक को सूचित कर दिया कि उन्हें निष्कासित किया जा रहा है।विक्टोरिया ने कहा, ‘अमेरिका के पर्यवेक्षकों ने इसकी पुष्टि की है कि हाउला में 90 से अधिक लोगों की मौत हुई है। इनमें कम से कम 30 बच्चे ऐसे हैं, जिनकी उम्र 10 साल से भी कम थी।अन्य देशों से भी इसी तरह के बयान आए। सभी ने इसे हिंसा का अस्वीकार्य स्तर करार दिया है। जहां फ्रांस के विदेश मंत्री लॉरेंट फेबियस ने सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल-असद को खूनीकहा, वहीं ऑस्ट्रेलियाई विदेश मंत्री बॉब कार ने उन्हें इस नरसंहार के लिए जिम्मेदार ठहराया है। फेबियस ने कहा, ‘असद अपने ही लोगों के हत्यारे हैं। उन्हें सत्ता छोड़ देनी चाहिए। वह जितनी जल्दी यह फैसला लेंगे उतना अच्छा होगा।फ्रांस के एक राजनयिक सूत्र के अनुसार, ‘यह देश ऐसी हिंसा को अंजाम दे रहा है जिसे राजनयिक स्तर पर नहीं सुलझाया जा सकता। हाउला में हुए नरसंहार के बाद यह सभी देशों का एकजुट फैसला है।शुक्रवार को हाउला में हुई हिंसा में 100 से अधिक नागरिक मारे गए थे। इसकी समस्त अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने निंदा की थी।