24 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
अमरीकी पेशकश अफरीदी ने ठुकराई
31-05-2012

वाशिंगटन। अलकायदा सरगना ओसामा बिन लादेन का पता लगाने में अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए की सहायता करने वाले पाकिस्तानी डा. शकील अफरीदी ने अमेरिकी किसी अन्य देश में पुनर्वास करने की अमेरिका की पेशकश ठुकरा दी है। दो अमेरिकी अधिकारियों ने ही इस संबंध में यह जानकारी दी है।विदेश मंत्रालय अथवा व्हाइट हाउस ने इस विषय पर कोई भी टिप्पणी करने से इनकार कर दिया है। अधिकारियों ने कहा कि डा.अफरीदी ने अमेरिकी सील कमांडो को लादेन के एबटाबाद स्थित ठिकाने तक पहुंचाने में मदद की थी। इसके बाद लादेन अमेरिकी सील के हाथों पिछले वर्ष दो मई 2011 को मारा गया। अधिकारियों ने बताया कि डा.अफरीदी और उनके परिवार वालों को किसी दूसरे देश में पुनर्वास के लिए अमेरिकी की ओर से पेशकश की गई मगर उन्होंने यह पेशकश फिलहाल तो ठुकरा दी है।उन्होंने कहा कि डा.अफरीदी अपने परिवार सहित पुनर्वास योजना के तहत पाकिस्तान छोड़ सकते हैं और किसी दूसरे देश में रह सकते हैं। किन कारणों से डा.अफरीदी ने यह पेशकश ठुकराई इस बारे में अभी साफ नहीं हो पाया है। डा.अफरीदी पर एबटाबाद में एक फर्जी टीकाकरण अभियान चलाने का आरोप था। उन्होंने अलकायदा सरगना के ठिकाने में रहने वाले लोगों की पहचान की पुष्टि के लिए लादेन के बच्चों का डीएनए कराने के मकसद से उनके जबड़े के नमूने लिए थे। हालांकि वह डीएनए नहीं करा सके थे।गौतरलब है कि डा.अफरीदी पर देशद्रोह का दोष लगाने के बाद पाकिस्तान की एक अदालत ने गत सप्ताह उन्हें 33 साल कैद की सजा सुनाई है। ओबामा प्रशासन डा.अफरीदी को सुनाई गई सजा के लिए पाकिस्तान की लगातार आलोचना कर रहा है।