19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
तानाशाह होस्नी मुबारक को उम्रकैद की सजा
02-06-2012

काहिरा।मिस्र के पूर्व तानाशाह होस्नी मुबारक को सैकड़ो प्रदर्शनकारियों की हत्या का दोषी मानते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। मिस्त्र की अदालत द्वारा यह फैसला सुनाया गया है। मुबारक के लिए खिलाफ सजा का ऐलान सुनते ही काहिरा में जश्न का माहौल है। पूर्व राष्ट्रपति मुबारक, पूर्व मंत्री हबीब और छह सहायकों पर हत्या के आरोप था। आरोप के मुताबिक, उन्होंने मिस्र क्रांति के 18 दिन के दौरान निहत्थे प्रदर्शनकारियों की हत्या की थी। मुबारक, उनके दो बेटों और भगोड़े व्यवसायी हुसैन सलेम पर भ्रष्टाचार के आरोप भी हैं। फैसला आने के बाद मिस्र में ध्रुवीकरण गहराने की आशंका जताई जा रही है। मुबारक के पक्ष में फैसला हो या फिर उन्हें दोषी ठहराया जाए दोनों ही सूरत देश के लिए घातक साबित हो सकती है। वैसे भी मिस्र में राष्ट्रपति पद के पहले चरण का चुनाव खत्म होने के बाद से राजनैतिक तनाव चरम पर है।84 वर्षीय मुबारक ऐसे पहले अरबी नेता हैं जिन पर अपनी जनता द्वारा मुकदमा चलाया जा रहा है। मुबारक पर 900 लोगों की हत्याओं में भागीदारी के आरोप हैं। ये हत्याएं पिछले साल तब की गईं थीं जब मिस्र के लोगों ने उनके खिलाफ बगावत कर दी थी। इसके बाद मुबारक को सत्ता छोड़नी पड़ी थी। दोषी करार दिए जाने पर मुबारक को मौत की सजा सुनाई जा सकती है। इन हत्याओं के अलावा उनपर अपने दो बेटों गमाल और अला और एक पारिवारिक मित्र के साथ मिलकर भ्रष्टाचार करने के भी आरोप हैं। यह पारिवारिक मित्र फिलहाल फरार है।सीरियाई विद्रोहियों ने 11 लेबनानी शिया तीर्थयात्रियों को अगवा किया बेरुत।सीरिया के एक विद्रोही समूह ने 11 लेबनानी शिया तीर्थयात्रियों के अपहरण का दावा किया है। अल जजीरा को दिए बयान में इस समूह ने अपना नाम सीरियन रिबेल्स इन अलेप्पोबताया है। समूह ने कहा है कि अपहृत लोग ठीक हालत में हैं।ये तीर्थयात्री तुर्की से लेबनान जा रहे थे। इन्हें 22 मई को सीरिया में दाखिल होने के बाद पकड़ लिया गया। बंधक तीर्थयात्रियों और उनके पासपोर्ट की तस्वीरें गुरुवार रात टीवी चैनल अल जजीरा पर दिखाई गई। हालांकि अल जजीरा ने यह बताने से इंकार कर दिया है कि उसे ये तस्वीरें कहां से मिलीं? विद्रोहियों के समूह का दावा है कि पांच बंधक आतंकी हिजबुल्लाह समूह के हैं। विद्रोहियों ने हिजबुल्लाह समूह के नेता शेख हसन नसरल्लाह से माफी मांगने को कहा है।अलकायदा ने की 27 यमनी सैनिकों को छोड़ने की घोषणा सना।यमन में अलकायदा से संबद्ध आतंकी संगठन अंसार अल शरीयत ने 27 यमनी सैनिकों को छोड़ने की घोषणा की है। उसने कहा है कि वह रविवार को इन्हें छोड़ देगा। इन्हें पिछले महीने अगवा किया गया था। आतंकियों के खिलाफ यमन की सेना की मुहिम का शुक्रवार को पांचवां दिन था। सेना ने अबयान प्रांत के शकरा और अरकूब क्षेत्रों में आतंकियों के ठिकानों को निशाना बनाया। उल्लेखनीय है कि अलकायदा लंबे वक्त से यमन पर अपना प्रभाव बढ़ाने की कोशिश कर रहा है। उसका मकसद विदेशी ठिकानों पर हमलों के लिए यमन का इस्तेमाल एक अड्डे के तौर पर करने का है।