19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
अलकायदा के लिए अल-लिबी का मारा जाना झटका: अमेरिका
06-06-2012

वाशिंगटन| अमेरिका ने पाकिस्तान में एक अमेरिकी ड्रोन हमले में अलकायदा के दूसरे दर्जे के सरगना अबु याहया अल-लिबी के मारे जाने की पुष्टि की है। अल-लिबी ने अलकायदा सरगना ओसामा बिन लादेन के मारे जाने के बाद संगठन के संचालन में मदद की थी। व्हाइट हाउस के प्रवक्ता जे कार्ने ने मंगलवार को संवाददाताओं से कहा, "अल-लिबी का मारा जाना अलकायदा को एक और बड़ा झटका है। उसकी मौत अलकायदा में पिछले कई वर्षो से जारी गिरावट का हिस्सा है।" कार्ने हालांकि इसके बारे में और विवरण उपलब्ध नहीं करा पाए। मंगलवार सुबह अमेरिकी अधिकारियों ने कहा कि सोमवार को सीआईए द्वारा पाकिस्तान में किए गए एक ड्रोन हमले में अल-लिबी मारा गया। अमेरिकी सेना द्वारा पिछले वर्ष दो मई को एबटाबाद में ओसामा बिन लादेन को मारे जाने के बाद अल-लिबी की मौत को अलकायदा के लिए एक सबसे गम्भीर झटका माना जा रहा है। अल-लिबी, अलकायदा में अयमान अल-जवाहिरी के बाद दूसरे दर्जे के नेता के रूप में उभरा था। लादेन के मारे जाने के बाद संगठन का नेतृत्व जवाहिरी के हाथों आ गया था। सीएनएन ने एक अनाम अमेरिकी अधिकारी के हवाले से कहा है, "(अलकायदा ने) जो विशेषज्ञता (अल-लिबी) खोई है, उसका स्थान भरने वाला फिलहाल कोई नाम सामने नहीं है।" अधिकारी ने कहा, "पश्चिम के खिलाफ संगठन की साजिश रचने में, बाहरी अभियानों के लिए की गई कोशिशों की निगरानी करने में अल-लिबी ने एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। अबु याहया की कमी पूरी करने वाले किसी व्यक्ति की तलाश कर पाना जवाहिरी के लिए बहुत कठिन होगा।"सीएनएन ने कहा है कि इस्लामिक विद्वान और संगठन का एक उच्च पदस्थ सदस्य अल-लिबी बार-बार इंटरनेट पर वीडियो के जरिए प्रकट होता था। उसने अलकायदा नेताओं की प्रशंसा करते हुए, प्रतिरोध का आग्रह करते हुए तथा नए सदस्यों की भर्ती की कोशिश में कई वीडियो भाषण दिए थे।