19 February 2019



खेलकूद
सानिया-भूपति फाइनल में
07-06-2012

पेरिस । सानिया मिर्जा और महेश भूपति की जोड़ी ने सीधे सेटों में जीत दर्ज करके पहली बार फ्रेंच ओपन टेनिस टूर्नामेंट के मिश्रित युगल के फाइनल में जगह बनाई। वहीं लिएंडर पेस और उनकी जोड़ीदार एलेना वेसनीना का सफर सेमीफाइनल में ही थम गया। सानिया और भूपति की सातवीं वरीयता प्राप्त भारतीय जोड़ी ने एक घंटे दस मिनट तक चले सेमीफाइनल में गालिना वोस्कोवोएवा और डेनेली ब्रासेली को 6-3, 6-2 से हराकर फाइनल में प्रवेश किया, जहां उनका सामना मैक्सिको के सेंटियागो गोंजालेज और पौलेंड की क्लाऊ डिया जेंस इग्नासिक की जोड़ी से होगा। गोंजालेज और इग्नासिक की जोड़ी ने दूसरे सेमीफाइनल में भारत के लिएंडर पेस और एलेना वेसनीना की जोड़ी को सीधे सेटों में 7-6, 6-3 से हरा खिताबी मुकाबले में प्रवेश किया। यह तीसरा अवसर है, जबकि सानिया और भूपति की जोड़ी किसी ग्रैंडस्लैम के फाइनल में पहुंची है। उन्होंने 2009 में ऑस्ट्रेलियाई ओपन का खिताब जीता था। नडाल, शारापोवा अंतिम चार में उधर, गत चैम्पियन रफेल नडाल ने हमवतन निकोलस अल्माग्रो पर आसान जीत के साथ पुरूष् एकल सेमीफाइनल में प्रवेश किया। नडाल ने अल्माग्रो को सीधे सेटों में दो घंटे और 42 मिनट में 7-6, 6-2, 6-3 से हराते हुए फ्रेंच ओपन में 50वीं जीत दर्ज की। वष्ाü 2005 में 18 बरस की उम्र में रोलां गैरो पर पहली बार उतरे नडाल ने अब तक यहां सिर्फ एक मैच गंवाया है। स्पेन के इस खिलाड़ी ने इस साल अब तक सेमीफाइनल के सफर के दौरान एक भी सेट नहीं गंवाया है। रूसी स्टार मारिया शारापोवा ने एस्टोनिया की काइया केनेपी पर सीधे सेटों में 6-2, 6-3 की आसान जीत के साथ तीसरी बार फ्रेंच ओपन में महिला एकल के सेमीफाइनल में जगह बनाते हुए कॅरिअर ग्रैंडस्लैम की ओर कदम बढ़ाए। शारापोवा के विपरीत क्वितोवा की राह आसान नहीं रही और उन्होंने एक सेट से पिछड़ने के बाद वापसी करते हुए कजाकिस्तान की क्वालीफायर यारोस्लाव श्वेदोवा को 3-6, 6 2, 6 4 से हराया।