17 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
सीरिया में हालात दिनोंदिन विस्फोटक
08-06-2012

दमिश्क।सीरिया में हालात दिनोंदिन विस्फोटक होते जा रहे हैं। राष्ट्रपति बशर अल असद के प्रति निष्ठा रखने वाले सैनिकों ने एक और नरसंहार को अंजाम दियाहै। निर्वासित विपक्षी गठबंधन के प्रवक्ता मोहम्मद सेरमिनी ने बताया कि हमा प्रांत के अल कुबैर गांव में असद समर्थक बलों ने नरसंहार कर 100 लोगों को मौत के घाट उतार डाला। मृतकों में 20 महिलाएं और 20 बच्चे शामिलहैं। अन्य सूत्रों ने भी अल कुबैर गांव में नरसंहार की पुष्टि की है। हालांकि मृतकों की संख्या को लेकर भ्रम बना हुआ है।सीरियन ऑब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्सके अनुसार नरसंहार में 87 लोगों की जान गई है। सीरिया ने संयुक्त राष्ट्र के पर्यवेक्षकों को गांव तक जाने से भी रोक दिया। संयुक्त राष्ट्र के पर्यवेक्षक मिशन के प्रमुख मेजर जनरल रॉबर्ट मूड ने कहा कि उनकी राह में बाधाएं पैदा की जा रही हैं और उनकी सुरक्षा को लेकर भी चिंता है। सीरियन ऑब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्सके अनुसार नरसंहार में 87 लोगों की जान गई है। संगठन ने कहा है कि सरकारी बलों ने पहले इस गांव में गोलीबारी की और फिर सरकार समर्थक शबीहा मिलीशिया ने नरसंहार को अंजाम दिया। ऑब्जर्वेटरी के रामी अब्दुल रहमान ने बताया कि बड़ी बात यह है कि इस नरसंहार में दर्जनों महिलाओं और बच्चों की भी जान गई है। यह गांव हामा शहर से 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। एक प्रत्यक्षदर्शी ने बीबीसी को बताया कि सरकार समर्थक सैनिकों ने गांव में लगभग सभी लोगों को मार डाला। बहुत कम लोग अपनी जान बचाकर भागने में कामयाब हो पाए। लोगों पर अंधाधुंध गोलीबारी की गई और बेरहमी से चाकू से वार किए गए। मरने वालों में दो साल से कम उम्र के बच्चे भी शामिल हैं। इस घटना को अंजाम देने के बाद शवों को घर में इकट्ठा कर घरों में आग लगा दी गई। सरकार ने इन आरोपों का खंडन किया है। सरकारी टेलीविजन पर कहा गया है कि चरमपंथियों के हमले के बाद इस गांव में सैनिकों को कुछ शव मिले हैं। गौरतलब है कि दो हफ्ते पहले हाउला में नरसंहार को अंजाम दिया गया था। उस समय 108 लोग मारे गए थे।खबर में संलग्‍न  वीडियो में देखा जा सकता है कि गांव पर हमले के बाद वहां क्‍या हाल हुआ। एक मकान की छत पूरी तरह गिरी हुई है और उस मकान की एक खिड़की से धुंआ निकल रहा है। एक दूसरे दृश्‍य में एक दो मंजिला मकान का दूसरा तल्‍ला दिखाई दे रहा है। इसमें स्‍पष्‍ट दिख रहा है कि धमाका इतना तेज रहा होगा कि कि दूसरी मंजिल को खासा नुकसान पहुंचा। मकान के खंभे टूट फूट गये हैं और उसके बाहरी हिस्‍से में टूटे हुए हिस्‍से दिखाई दे रहे हैं। गांव भर में कई जगह से धुएं का गुबार दिखाया गया है। इससे जाहिर होता है कि वहां भारी मात्रा में विस्‍फोटकों का प्रयोग किया गया होगा।