18 February 2019



खेलकूद
फ्रांस क्वार्टर फाइनल में
21-06-2012

डोनेस्क (उक्रेन)। फ्रांस की टीम ने यूरो 2012 के ग्रुप डी मैच में पहले ही प्रतियोगिता से बाहर हो चुके स्वीडन के हाथों 0-2 की शिकस्त के बावजूद छह साल में पहली बार किसी बड़ी प्रतियोगिता के क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई। इसी ग्रुप के एक अन्य मैच में इंग्लैंड ने भी गोल लाइन रैफरी की बड़ी गलती के कारण उक्रेन को 1-0 से हराकर अंतिम आठ का सफर तय किया। इस हार के साथ उक्रेन टूर्नामेंट से बाहर हो गया और इस तरह उक्रेन और पोलैंड दोनों सहमेजबान ग्रुप चरण की बाधा को भी पार करने में विफल रहे। इंग्लैंड की ओर से करिश्माई खिलाड़ी वेन रूनी ने 48वें मिनट में गोल दागा, जिससे टीम ग्रुप डी में शीष्ाü पर रही और अब उसे रविवार को कीव में होने वाले क्वार्टर फाइनल में इटली का सामना करना है। चोटिल कप्तान आंद्रेई शेवचेंको के बिना उतरी उक्रेन की टीम हालांकि दुर्भाग्यशाली रही कि मैच को ड्रा नहीं करा पाई। उक्रेन की ओर से 62वें मिनट में मार्को डेविच के स्पष्ट गोल को रैफरी ने मानने से इनकार कर दिया। डेविच ने इंग्लैंड के बाक्स के अंदर गेंद को अपने कब्जे में लेते हुए लूप शॉट मारा, जो गोलकीपर जो हार्ट के ऊपर से होते हुए गोल की तरफ बढ़ा। जान टैरी ने इसके बाद गोता लगाते हुए गेंद को बाहर धकेल दिया।उक्रेन की अपील के बावजूद रैफरी ने उनके पक्ष में गोल का फैसला नहीं सुनाया। बाद में टेलीविजन रीप्ले में साफ दिखाया गया किया कि गेंद गोल रेखा से कई इंच आगे निकल गई थी, लेकिन गोल के पीछे खड़े अतिरिक्त सहायक रैफरी इसे नहीं देख पाए। इससे पहले विश्व कप 2010 में जर्मनी के खिलाफ इंग्लैंड के खिलाफ फ्रैंक लैम्पर्ड के गोल को मान्य करार नहीं देने के गोल लाइन विवाद के कारण गोल लाइन तकनीक को लाने की मांग उठी थी। वहीं दूसरी तरफ टूर्नामेंट से पहले ही बाहर हो चुके स्वीडन की ओर से कप्तान ज्लाटन इब्राहिमोविच ने 54वें, जबकि स्थानापन्न सबेस्टियन लार्सन ने 90वें मिनट में गोल दागा, जिससे टीम प्रतिष्ठा बचाने में सफल रही। इसके साथ पहले दो मैचों में हार झेलनी वाले स्वीडन ने ना सिर्फ टूर्नामेंट का पहला अंक हासिल किया, बल्कि अक्टूबर 1969 के बाद लगभग 43 बरस में फ्रांस पर पहली जीत भी दर्ज की। इस हार के साथ फ्रांस का लगातार 23 मैच में अजेय रहने का क्रम भी थम गया। फ्रांस की टीम इससे पहले किसी बड़े टूर्नामेंट के नॉकआउट चरण में 2006 विश्व कप के दौरान पहुंची थी। टीम को अब क्वार्टरफाइनल में गत विश्व और यूरोपीय चैम्पियन स्पेन का सामना करना होगा।इससे पहले स्वीडन की टीम को आठवें मिनट में बढ़त मिल जाती। ओला टोइवोनेन ने फ्रांस के ±यूगो लोरिस और गोलकीपर को पछाड़ भी दिया था, लेकिन उनका शॉट गोलपोस्ट से टकरा गया। फ्रांस ने भी कुछ अच्छे मौके बनाए। केरिम बेनजेमा गोल करने के करीब भी पहुंचे, लेकिन कामयाबी नहीं मिली। मध्यांतर तक दोनों ही टीमें गोल करने में नाकाम रहीं। इब्राहिमोविच ने दूसरे हाफ में लार्सन के शानदार क्रास पर गोल दागकर अपनी टीम को 1-0 से आगे कर दिया, जबकि लार्सन ने अंतिम क्षणों में एक और गोल करके अपनी टीम की 2-0 से जीत सुनिश्चित की।