19 February 2019



खेलकूद
पेस की लंदन ओलंपिक से बहिष्कार की धमकी
22-06-2012

मुंबई। अपने से कहीं कमतर खिलाड़ी विष्णु वर्धन के साथ जोड़ी बनाए जाने से नाराज भारत के नंबर एक युगल टेनिस खिलाड़ी लिएंडर पेस की लंदन ओलंपिक से बहिष्कार की धमकी के बीच एआइटीए का एक चयनकर्ता उनको मनाने के लिए लंदन में मुलाकात करेगा। चयनकर्ता रोहित राजपाल शुक्रवार को लंदन के लिए रवाना होंगे जहां पेस अगले हफ्ते से शुरू हो रहे विंबल्डन की तैयारियों में व्यस्त हैं से मुलाकात करेंगे। हालांकि राजपाल का पहले से ही विंबल्डन मैच देखने का कार्यक्रम था और अब वे वहीं पेस को मनाने की कोशिश करेंगे। इससे पूर्व गुरुवार को टीम की घोषणा होने के बाद पेस ने लंदन से फोन पर कहा कि अखिल भारतीय टेनिस संघ [एआइटीए] के फैसले से मैं स्तब्ध हूं कि मुझे गंदी राजनीति में घसीटा गया। मेरे पास कहने के लिए शब्द नहीं है। मेरी रैंकिंग [युगल में व्यक्तिगत रैंकिंग सात] मुझे भारत का सर्वोच्च रैंक वाला खिलाड़ी बनाती है, इसलिए मुझे अपना साथी चुनने का पूरा अधिकार था। लेकिन दो लोगों [भूपति-बोपन्ना] की वजह से मेरा ओलंपिक सपना खतरे में है। वहीं पिता वेस पेस ने हिंट दिया था कि निराश लिएंडर ओलंपिक से हट सकता है। दूसरी ओर एआइटीए के फैसले से महेश भूपति और रोहन बोपन्ना खुश हैं और दोनों ने राहत की सांस ली है। कई दिनों से चल रही खींचतान के बाद पांच बार के ओलंपियन पेस ने बुधवार को एआइटीए को पत्र लिख कर कहा था कि अगर उन्हें विश्व के 207 या 306 [विष्णु वर्धन-युकी भांबरी] रैंकिंग वाले खिलाड़ियों के साथ लंदन भेजा जाता है, तो उनके पास ओलंपिक से हटने के अलावा कोई रास्ता नहीं बचा है। हालांकि पूर्व डेविस कप कप्तान ने टेनिस संघ द्वारा मिक्सड डबल्स में सानिया के साथ जोड़ी बनाए जाने पर कुछ नहीं कहा, लेकिन पेस ने उनके साथ अन्याय के बारे में जरूर आवाज उठाई। अटलांटा ओलंपिक के कांस्य पदक विजेता ने कहा कि इस पूरे प्रकरण की सबसे खराब बात यह रही कि एआइटीए द्वारा जिन खिलाड़ियों को दंडित किया जाना चाहिए था, उनकी बातों को मानकर उन्हें ओलंपिक में भेजा जा रहा है। आज मुझे लग रहा है कि मैं इस देश का बेटा नहीं हूं। दूसरी ओर भूपति और बोपन्ना ने संयुक्त बयान में कहा कि हम ओलंपिक में साथ खेलने को लेकर उत्साहित हैं और अब हमारा पूरा ध्यान खेलों के लिए अपनी तैयारियों पर रहेगा। उन्होंने कहा कि हमें खुशी है कि ओलंपिक के पुरुष युगल में हमें टीम के रूप में नामित किया गया है। एआइटीए के मिश्रित युगल में लिएंडर और सानिया मिर्जा की जोड़ी बनाने के बारे में भूपति ने कहा, 'मैं समझता हूं कि हमें 28 जून तक इंतजार करने की जरूरत है कि सानिया को वाइल्ड कार्ड मिलता है या नहीं। निश्चित तौर पर हमारा पहला प्रयास ओलंपिक में भाग लेना था। हम उम्मीद कर रहे हैं कि उन्हें भी वाइल्ड कार्ड मिल जाएगा और वह भी लंदन में खेलें। उन्होंने [एआइटीए] ने मुझसे कहा कि यह विंबल्डन में हमारे प्रदर्शन पर भी निर्भर करता है।' पेस के साथ लंदन में जोड़ी बनाने से इन्कार करने के बारे में भूपति ने कहा, 'मैं न केवल ओलंपिक में भाग लेना चाहता हूं, बल्कि उसमें अच्छा प्रदर्शन भी करना चाहता हूं। पिछले चार ओलंपिक में हम खेले, लेकिन जीत नहीं पाए। उम्मीद है कि नई जोड़ी से बात बनेगी और हम कुछ अलग कर पाएंगे।' बोपन्ना ने कहा, 'एआइटीए का यह सही समय पर लिया गया फैसला है। यह उनके लिए आसान नहीं था, लेकिन उन्होंने सही फैसला किया।' पेस और भूपति के बीच मतभेद पर टिप्पणी करने से इन्कार करते हुए बोपन्ना ने कहा कि एकमात्र लक्ष्य भारत को पदक दिलाने के लिए हर संभव प्रयास करना था। वहीं कोलकाता में पूर्व ओलंपियन वेस पेस ने लंदन ओलंपिक के लिए अपने बेटे लिएंडर पेस की जोड़ी विष्णु वर्धन के साथ बनाने के एआइटीए के फैसले की आलोचना की। वेस ने कहा, 'देश के नंबर एक रैंकिंग वाले खिलाड़ी के साथ ऐसा करना अनुचित है। लिएंडर इस फैसले से बेहद निराश होगा। उसके साथ अच्छा बर्ताव नहीं किया गया। वह काफी भावुक है, इसलिए यह कहना मुश्किल है कि उसके ऊपर क्या असर होगा। मुझे नहीं लगता कि वह एआइटीए के इस फैसले से सहमत होगा।'