24 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
पाकिस्तान की भूमिका उजागर
27-06-2012

वाशिंगटन। संदिग्ध आतंकी अबू जिंदाल की भारत में गिरफ्तारी से 26/11 के मुंबई हमले में पाकिस्तान की भूमिका उजागर होने की बात कहते हुए एक अमेरिकी विशेषज्ञ ने पाक सरकार से इस आतंकी घटना में शामिल सभी लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए कहा है।कंजरवेटिव थिंक टैक हेरिटेज फाउंडेशन की दक्षिण एशिया मामलों की वरिष्ठ शोधार्थी लीसा कर्टिस ने मंगलवार को लिखा कि जिंदल ने कथिततौर पर स्वीकार किया है कि उसने जिस कमरे से आतंकियों को निर्देश दिए थे, उस कमरे में पाकिस्तानी खुफिया अधिकारी मौजूद थे।उन्होंने कहा, 'यदि यह सही है तो ये आरोप पहले से कमजोर चल रहे अमेरिका-पाकिस्तान रिश्तों को और भी कमजोर करेगे और इससे वैश्विक स्तर पर पाक की छवि और खराब होगी। उन्होंने संभावना जताई कि अमेरिका ने जिंदाल का पता लगाने में भारत की मदद की है।26/11 के संदिग्धों की जांच व उन पर मुकदमा चलाए जाने से पाक सरकार के पीछे हटने पर कर्टिस ने कहा, 'पाकिस्तान को मुंबई हमले में शामिल हर व्यक्ति के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए। यहां तक कि उसे उन खुफिया अधिकारियों के खिलाफ भी कार्रवाई करनी चाहिए, जिन्हे इसकी जानकारी थी। उन्होंने कहा कि पाक ऐसा करे नहीं तो वह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर और अलग-थलग पड़ जाएगा और उसे अछूत देश समझा जाएगा।इस बीच अमेरिकी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता विक्टोरिया नूलैंड ने मंगलवार को मुंबई हमले के साजिशकर्ताओं को न्याय दिलाने के भारतीय प्रयासों को अमेरिकी सहयोग देने की बात दोहराई थी।उन्होंने कहा कि हमें इस बात की जानकारी है कि मुंबई में हुए 2008 के आतंकी हमले के एक संदिग्ध साजिशकर्ता की गिरफ्तारी हुई है। हम चाहते है कि सभी संदिग्धों की गिरफ्तारी हो, उन पर मुकदमे चलें और उन्हे सजा मिले। हम इसके लिए सहयोग करने के लिए तैयार है।'' नूलैंड ने कहा कि मुंबई हमले में उनके देश के छह नागरिक भी मारे गए थे।