24 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
म्यांमार में हो रहे सुधारों का समर्थन करेगा फ्रांस
28-06-2012

पेरिस। राष्ट्रपति फ्रांकोआ ओलांद ने म्यांमार की लोकतंत्र समर्थक नेता आंग सान सू की से कहा है कि उनके देश में परिवर्तन को समर्थन देने के लिए फ्रांस हरसंभव कदम उठाएगा। नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित सू की का यूरोप दौरा अंतिम चरण में है। सू की ने अपने देश की अर्थव्यवस्था के लिए निवेश का आह्वान किया। लेकिन उन्होंने स्पष्ट किया कि यह इन दिनों चल रहे राजनीतिक सुधारों की कीमत पर नहीं होना चाहिए। एलिसी पैलेस में सू की का स्वागत करने के बाद ओलांद ने कहा कि फ्रांस म्यांमार में हो रहे सुधारों का हरसंभव समर्थन करेगा। अगर सुधारवादी राष्ट्रपति थीन सीन फ्रांस आना चाहते हैं, तो पेरिस उनकी मेजबानी के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि उनका देश म्यांमार में लोकतांत्रिक बदलाव के लिए यूरोपीय संघ के साथ पूरा समर्थन देगा। थीन सीन के बारे में पूछे जाने पर ओलांद ने कहा, अगर वे आना चाहते हैं, तो जरूर आएं। पिछले हफ्ते थीन सीन को म्यांमार के पूर्व औपनिवेशिक शासक ब्रिटेन ने अपने यहां आमंत्रित किया था। स्विट्जरलैंड, नार्वे, आयरलैंड और ब्रिटेन दौरे के बाद अभी सू की फ्रांस दौरे पर हैं। उनका किसी देश के प्रमुख की तरह ही पेरिस में स्वागत किया गया। उन्होंने ओलांद के साथ रात्रि भोज भी किया।लोकतंत्र के साथ विकास भी है जरूरी: सू की सू की ने कहा, हमें देश में लोकतंत्र के साथ-साथ आर्थिक विकास भी चाहिए। विकास लोकतंत्र का पर्याय नहीं हो सकता है। विकास का उपयोग लोकतंत्र की नींव मजबूत करने के लिए किया जाना चाहिए।उन्होंने कहा कि संसाधनों से समृद्ध देश म्यांमार में निवेश के लिए उद्योगों और कारोबार में वित्तीय पारदर्शिता की जरूरत है। ओलांद ने सू की से कहा कि फ्रांसीसी तेल कंपनी टोटल म्यांमार के तटीय यदाना गैस क्षेत्र में तेल की खोज कर रही है। यह कंपनी देश के पर्यावरण और श्रम कानूनों का पूरा खयाल रखती है। वहीं टोटल पर मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया है कि यह कंपनी पूर्ववर्ती सैन्य शासकों की सहयोगी रही है