16 February 2019



राष्ट्रीय
अबू जुंदाल के पास थे दो पहचान पत्र
29-06-2012

नई दिल्ली. मुंबई हमले में गिरफ्तार जबीउद्दीन अंसारी उर्फ अबू जुंदाल को पाकिस्तान में उसके आकाओं ने दो पहचान पत्र दिए थे। इनमें से एक पाकिस्तान के लिए था और दूसरा उसके वहां से बाहर जाने के लिए था। दोनों में उसकी पहचान अलग थी। जुंदाल से पूछताछ में एजेंसियों को यह जानकारी मिली है।उधर, गृह मंत्रालय ने पाकिस्तान के साथ जुंदाल से मिली जानकारियां साझा करने का विचार त्याग दिया है। गृह मंत्रालय ने कहा है कि पाकिस्तान के आंतरिक मंत्री रहमान मलिक के बयान के बाद सूचनाएं साझा करने का कोई औचित्य नहीं बनता है।मंत्रालय को लगता था कि पाक मुंबई हमले में दिए जाने वाले साक्ष्यों पर काम करते हुए इसके साजिशकर्ताओं और लश्कर प्रमुख जकी उर रहमान लखवी पर कार्रवाई करेगा लेकिन उसने साफ कर दिया है कि वह मुंबई हमले में अभी भी मूक दर्शक ही बना रहेगा। मंत्रालय सूत्रों के मुताबिक जुंदाल को रियासत अली के नाम से जारी पाक पासपोर्ट के अलावा उसके आकाओं ने उसे दो पहचान पत्र दिए थे।एक, उसकी पाकिस्तान में मौजूदगी के लिए था जबकि दूसरा परिचय पत्र उसके पाक से बाहर रहने के दौरान के लिए था। एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि जुंदाल ने पूछताछ में कराची के कंट्रोल रूम से लेकर वहां भारत के खिलाफ सक्रिय लश्कर औरआईएसआई अधिकारियों के बारे में कई तरह की सूचनाएं दी हैं। इन्हें समय आने पर उचित मंच पर भारत उठाएगा।गृह सचिव स्तरीय वार्ता के दौरान पाक को सौंपे गए वांछित अपराधियों की सूची में जुंदाल का नाम न होने संबंधी सवाल पर एक अन्य अधिकारी ने कहा कि उस समय जुंदाल सऊदी अरब गया था। ऐसे में पाक को गलत सूचना कैसे दी जा सकती थी। पाक को चाहिए कि वह भारत की ईमानदारी का सम्मान करे। उल्टा वह साक्ष्यों को दरकिनार करते हुए मुंबई हमले में पाक सरकारी मशीनरी की संलिप्तता से ही इनकार कर रहा है।