19 February 2019



खेलकूद
पिंकी की जमानत याचिका खारिज
30-06-2012

कोलकाता । दुष्कर्म के आरोप में गिरफ्तार एथलीट पिंकी प्रमाणिक की जमानत याचिका शुक्रवार को बारासात अदालत ने खारिज कर उसकी न्यायिक हिरासत और 14 दिन बढ़ा दी। पिंकी को 12 जुलाई को फिर से अदालत में पेश किया जाएगा। सरकार एवं बचाव पक्ष के अधिवक्ताओं की आधा घटे तक दलील सुनने के बाद मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट अनीता माथुर ने यह निर्देश दिया। अदालत ने पिंकी के हार्मोन व क्रोमोसोम परीक्षण के लिए नमूने परीक्षण के लिए भेजे जाने के सरकारी अधिवक्ता के अनुरोध को स्वीकार कर लिया। बचाव पक्ष के अधिवक्ता दीपंकर घोष ने बताया कि बारासात जिला अस्पताल के सात और एसएसकेएम अस्पताल के 11 डॉक्टरों ने पिंकी का शारीरिक परीक्षण किया। जाच की सीडी व रिपोर्ट अदालत में जमा हुई है। डॉक्टर लिंग परीक्षण के बारे में सटीक निर्णय पर नही पहुंच पाए हैं। ऐसे में पिंकी की उपलब्धियों के मद्देनजर उसका पासपोर्ट जमा कराके उसे जमानत दे दी जाए। सरकारी अधिवक्ता विकास रंजन दे ने अदालत में कहा कि पिंकी एक प्रभावशाली व्यक्तित्व है। जमानत मिलने पर वह जेल से बाहर आकर जांच रिपोर्ट को प्रभावित कर सकती है। अदालत ने उनकी इस दलील को मानते हुए पिंकी की जमानत नामंजूर कर दी। विदित हो कि एशियाई और राष्ट्रमंडल खेलों में पिंकी प्रमाणिक ने देश के लिए कई पदक जीते हैं।