16 February 2019



खेलकूद
लिएंडर पेस के तीखे तेवर
30-06-2012

लंदन. भारत के शीर्ष युगल खिलाड़ी लिएंडर पेस ने आखिरकार लंदन ओलिंपिक में खेलने के लिए हां कर दी है, लेकिन साथ ही उन्होंने तीखे तेवर भी दिखाए। पेस ने कहा कि मैं सिर्फ खेलता हूं, राजनीति नहीं करता हूं। उन्होंने कटाक्ष करते हुए कहा कि सारा मामला दुर्भाग्यपूर्ण है। मुझे अब खेल के अंदर भी खेल नजर आने लगा है। विष्णु की पूरी मदद को तैयार अटलांटा में 1996 में हुए ओलिंपिक में भारत की ओर से टेनिस में एकमात्र कांस्य पदक जीतने वाले पेस ने कहा कि मैं विष्णु की मदद करने की कोशिश करूंगा, जो पहली बार ओलिंपिक में हिस्सा लेने जा रहे हैं। मैं अभी यह भी नहीं जानता कि उनके पास ग्रास कोर्ट के शूज भी हैं या नहीं। मुझे उनके साथ थोड़ी मुश्किल तो होगी, लेकिन वे वास्तव में अच्छे इंसान हैं और मुझे उनके साथ खेलकर खुशी होगी। पेस ने विष्णु के साथ जोड़ी बनाए जाने पर पहले गहरी आपत्ति जताई थी, लेकिन अब उन्होंने एआईटीए के फैसले का सम्मान करते हुए कहा कि चाहे जितनी मुश्किल हो, एक अनुभवी पेशेवर खिलाड़ी के रूप में मैं विष्णु की जितनी सहायता कर सकता हूं, वो करूंगा। आखिर वे मेरे जोड़ीदार हैं। अखिल भारतीय टेनिस संघ (एआईटीए) ने लंदन गेम्स के लिए विष्णुवद्र्धन की पेस के साथ और महेश भूपति की रोहन बोपन्ना के साथ जोड़ी बनाई है। मिश्रित युगल में पेस के साथ सानिया मिर्जा की जोड़ी बनाई गई है, जिस पर सानिया ने पेस पर तीखा प्रहार करते हुए एआईटीए पर भी पक्षपात करने का आरोप लगाया था। भूपति ने भी सानिया का समर्थन करते हुए कहा था कि सानिया की मर्जी के बिना उनका इस्तेमाल किया गया है। हालांकि पेस ने अभी तक इस मुद्दे पर कोई भी टिप्पणी नहीं की थी, लेकिन अब उन्होंने कहा है कि वे अपना ध्यान खेलने पर लगाना चाहते हैं, न कि राजनीति पर।