19 February 2019



खेलकूद
युवराज सिंह की संघर्ष क्षमता की सराहना
05-07-2012

मुंबई। मुख्य चयनकर्ता कृष्णामाचारी श्रीकात ने बुधवार को कैंसर से उबर रहे युवराज सिंह की संघर्ष क्षमता की सराहना की। उन्होंने कहा कि यह आक्रामक बल्लेबाज राष्ट्रीय टीम में वापसी के योग्य है।जुलाई-अगस्त में होने वाले श्रीलंका दौरे के लिए भारतीय टीम के चयन के बाद श्रीकात ने कहा, 'युवराज ने राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी [एनसीए] में अभ्यास शुरू कर दिया है, जो हम सभी के लिए अच्छी खबर है। एक खिलाड़ी जिसने हमारे लिए विश्व कप जीता हो उसकी वापसी होनी चाहिए। हम सभी को इसकी उम्मीद है। हम टी-20 विश्व कप के लिए टीम में युवराज की वापसी चाहते हैं। मुझे लगता है कि उनके अंदर वापसी करने का मादं्दा है।' 2011 विश्व कप में अपने शानदार हरफनमौला प्रदर्शन के लिए युवराज को 'मैन ऑफ द टूर्नामेंट' का पुरस्कार मिला था। लेकिन उसके बाद फेफड़ों के कैंसर का पता चलने के बाद उनके करियर में व्यवधान आ गया। चंडीगढ़ का बाएं हाथ का यहबल्लेबाज अमेरिका में कीमोथैरेपी करवाने के बाद तीन माह पहले ही भारत लौटा है।श्रीकांत ने कहा, 'हमारे पास अब भी समय है। टीम का चयन इसी महीने किया जाएगा।' टी-20 विश्व कप 18 सितंबर से खेला जाएगा। हाल में अभ्यास शुरू करने वाले युवराज बेंगलूर में राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी में रिहैबिलिटेशन की प्रक्रिया से गुजर रहे हैं। वह 2007 में दक्षिण अफ्रीका में पहला टी-20 विश्व कप जीतने वाली भारतीय टीम के सदस्य थे। उस विश्व कप में उन्होंने इंग्लैंड के स्टुअर्ट ब्रॉड के एक ओवर में छह छक्के लगाए थे।