19 February 2019



राष्ट्रीय
अनशन की इजाजत न मिलनें में चिंदबरम का हाथ:केजरीवाल
06-07-2012

नई दिल्ली. टीम अन्ना को 25 जुलाई से प्रस्तावित अनशन के लिए दिल्ली पुलिस की अनुमति नहीं मिली है। दिल्ली पुलिस ने सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट के फैसलों और पिछले साल जून में रामलीला मैदान में बाबा रामदेव के साथ हुई घटना का हवाला देते हुए अनुमति देने से इनकार कर दिया।लेकिन टीम अन्ना ने इस मुद्दे पर पलटवार किया है। टीम अन्ना के सदस्य अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि 25 जुलाई से अनशन की इजाजत न देना केंद्रीय गृहमंत्री पी. चिदंबरम की साजिश है। केजरीवाल ने कहा, 'चिदंबरम जानते हैं कि अन्ना के पास उनके खिलाफ किए गए भ्रष्टाचार के सुबूत हैं। दिल्ली पुलिस उन्हीं के इशारे पर सब कुछ कर रही है।' केजरीवाल ने कहा कि 25 जुलाई से अनशन होकर रहेगा चाहे जंतर मंतर पर हो या फिर जेल में। पटियाला में मीडिया से बात करते हुए केजरीवाल ने कहा कि कांग्रेस प्रणब मुखर्जी की तरह सभी अहम पदों पर दागियों को बैठाना चाहती है। केजरीवाल के मुताबिक प्रणब को राष्ट्रपति बनाने के लिए कांग्रेस इनदिनों 'डील' कर रही हैटीम अन्ना ने दिल्ली पुलिस से जंतर-मंतर पर 25 जुलाई से 8 अगस्त तक के लिए अनशन की अनुमति मांगी थी। लेकिन दिल्ली पुलिस ने पत्र लिख कर कहा कि जिस दौरान अनशन करने के लिए अनुमति मांगी गई है उस दौरान संसद का मॉनसून सत्र चल रहा होगा। सत्र के दौरान देश भर के कई संगठन जंतर-मंतर पर आकर विरोध प्रदर्शन और धरना करते हैं। जंतर-मंतर पर स्थान सीमित है और भीड़ के अनियंत्रित होने या भगदड़ की स्थिति में पुलिस लोगों को सुरक्षा मुहैया नहीं करा पायेगी। साथ ही पुलिस को सीमित स्थान में सभी संगठनों को प्रदर्शन और धरना करने के लिए स्थान उपलब्ध करवाना है इसलिए टीम अन्ना को बेमियादी अनशन की अनुमति नहीं दी जा सकती। दिल्ली पुलिस ने टीम अन्ना को बातचीत के लिए भी बुलाया है, ताकि आपसी सहमति से किसी नतीजे पर पहुंचा जा सके।