19 February 2019



राष्ट्रीय
करोड़ों की संपत्ति बनी लैला की हत्या का कारण
06-07-2012

मुंबई। पाकिस्तान मूल की बॉलीवुड अभिनेत्री लैला खान के सौतेले पिता परवेज अहमद टाक और बॉलीवुड फाइनेंसर आसिफ शेख उर्फ सोनू ने ही लैला खान की हत्या की थी। आसिफ शेख ने मुंबई पुलिस के सामने स्वीकार किया है कि उसने ही लैला व उसके परिजनों की हत्या की थी।मुंबई क्राइम ब्रांच ने शेख को इस मामले में जुहू से गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक फिलहाल शेख के बयान पर पूरी तरह से भरोसा नहीं किया जा सकता है क्योंकि जब तक जम्मू-कश्मीर पुलिस की हिरासत में बंद परवेज टाक से वहां कि पुलिस पूछताछ नहीं कर लेती है तब तक कोई भी फैसला लेना संभव नहीं हो पाएगा।गौरतलब है कि पिछले 11 माह से लापता लैला के मामले में गिरफ्तार उसके सौतेले पिता परवेज अहमद टाक द्वारा इस मामले में अहमद शेख का भी नाम लिए जाने पर पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया था। फिलहाल पुलिस दोनों आरोपी के बयानों को मिलाकर देख रही है। पूछताछ के दौरान शेख ने बताया कि परवेज और उसने मिलकर ही लैला व उसके परिजनों की इगतपुरी में गोली मारकर हत्या की थी।मुंबई पुलिस जम्मू जाकर टाक की कस्टडी अपने हाथों में लेना चाहती थी लेकिन कागजों की वजह से इस मामले में भी एक सप्ताह की देरी हो सकती है। यह मामला तब सामने आया जब लैला के पिता नादिर शाह पटेल ने पुलिस में अपनी बेटी की गुमशुदगी की शिकायत दर्ज कराई और जांच के दौरान इस मामले में शेख व टाक का नाम सामने लाया। उसके बाद शेख को ओशिवारा पुलिस स्टेशन में बुलाकर पूछताछ की गई। शेख ने तब बताया कि उसने लैला की मां को पांच साल पहले ही तलाक दे दिया था और अब उनके बारे में उसे कोई जानकारी नहीं है। पुलिस ने शेख के बयान को रिकार्ड कर उसे छोड़ दिया था। यही नहीं शेख ने कहा था कि लैला, उसकी मां सलीना पटेल, बहन जारा पटेल, भाई इमरान पटेल और रिश्ते की बहन रेशमा पटेल की फरवरी 2011 में मुंबई में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।-करोड़ों की संपत्ति बनी हत्या का कारणहत्या का कारण लैला की मां की करोड़ों की मुंबई में चल-अचल संपत्ति है, जो उसे पहले पति नादिर शाह पटेल के साथ हुए तलाक के बाद मिली। इस संपत्ति को हथियाने के लिए लैला के सौतेले पिता परवेज अहमद टाक ने मुंबई में बॉलीवुड के एक फाइनेंसर आसिफ शेख उर्फ सोनू व अफगान खान रियल इस्टेट बिल्डर के साथ मिलकर साजिश रची। भाडे़ के दो शार्पशूटरों की मदद से परवेज ने लैला खान व उसके परिवार की मुंबई से 100 किलोमीटर दूर किसी अज्ञात स्थान पर हत्या करवा दी।इसके बाद उक्त तीनों एसयूवी आउटलेंडर व स्कार्पियो लेकर जम्मू के एक होटल में तीन दिन ठहरे। इसके बाद परवेज आउटलेंडर लेकर किश्तवाड़ चला गया, जबकि अफगान और आसिफ स्कार्पियो जम्मू मेंही छोड़कर मुंबई चले गए। जम्मू पुलिस को कुछ दिनों के बाद लावारिस स्कार्पियो गाड़ी मिली थी। परवेज ने पूछताछ में यह भी स्वीकार किया है कि अगर उसे मुंबई में उस स्थान पर ले जाया जाए जहां लैला व उसके परिजनों की हत्या की गई है तो वह उस जगह को पहचान लेगा। इस सिलसिले में नासिक पुलिस का एक इंस्पेक्टर रैंक का अधिकारी देशमुख विलास राव पिछले 15 दिनों से किश्तवाड़ में डेरा डाले हुए है।जम्मू डिवीजन के इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस दिलबाग सिंह ने लैला व उसके परिवार के चार सदस्यों की हत्या की पुष्टि करते हुए दावा किया कि पुलिस तमाम कड़ियों को जोड़ रही है। उम्मीद है कि जल्द ही मुंबई में भी इस मामले में कुछ गिरफ्तारियां होंगी। आसिफ की मुंबई में गिरफ्तारी हो चुकी है। इसी बीच किश्तवाड़ पुलिस ने परवेज को धोखाधड़ी के एक अन्य मामले में सात दिन की रिमांड पर ले लिया है। परवेज पर आरोप है कि उसने लैला के पिता नादिर शाह का फर्जी पैन कार्ड बनवाया है।-धमाकों से जुड़े है तार बता दें कि मुंबई बम धमाके व दिल्ली हाई कोर्ट ब्लास्ट के बाद से सुरक्षा एजेंसियों को लैला की तलाश है। अभिनेत्री के संबंध लश्कर-ए-तैयबा से बताए गए हैं। मामला तब दोबारा सुर्खियों में आया जब गत 29 मई को किश्तवाड़ में लैला खान की गाड़ी बरामद हुई। घटना के बाद से ही परवेज भूमिगत हो गया था, लेकिन बाद में उसे गिरफ्तार कर लिया गया। आरोपी परवेज वर्ष 2008 में विधानसभा चुनावों में एनसीपी की टिकट पर जिला किश्तवाड़ की इंद्रवाल विधानसभा सीट से चुनाव भी लड़ चुका है। -नहीं मानते हुई हत्या लैला के पिता नादिर शाह पटेल ने बृहस्पतिवार को मुंबई में कहा कि वह नहीं मानते कि लैला व परिवार के अन्य सदस्यों की हत्या हो चुकी है। कहा कि परवेज पुलिस को गुमराह कर रहा है। उन्होंने बताया कि मुंबई में सांताक्रूज स्थित उनके आवास पर परवेज व उसका साथी आसिफ शेख अक्सर आते रहते थे। उनकी उपस्थिति पटेल को अच्छी नहीं लगती थी। इन दोनों से परिवारवालों को दूरी बनाने के लिए भी कहा। उनकी गतिविधियां संदिग्ध प्रतीत होती थीं। उन्होंने स्वीकार किया कि दोनों उन्हें संपत्ति से जुडे़ विवाद में फंसना चाहते थे। परवेज के पास उनके नाम का फर्जी पैन कार्ड मिलना इसी बात की पुष्टि करता है। पटेल ने बताया कि कुछ महीने पहले नासिक स्थित उनके बंगले में संदिग्ध परिस्थितियों में लगी आग व लैला के परिवार समेत गायब होने में कोई संबंध हो सकता है।