19 February 2019



खेलकूद
ग्रेग चैपल की किताब ने दिया ताजा विवाद को जन्म
06-07-2012

मुंबई। भारत के पूर्व कोच ग्रेग चैपल ने राहुल द्रविड़ पर अपनी नई किताब में यह कहकर ताजा विवाद को जन्म दे दिया है कि यदि द्रविड़ को उतना ही सहयोग मिल पाता जितना उन्होंने बाकी कप्तानों को दिया तो वह देश के सबसे सफल कप्तान होते। चैपल ने लिखा है कि द्रविड़ ने भारत को कई मैचों में जीत दिलाई, लेकिन उनकी कामयाबी पर टीम के कुछ सदस्य खुश नहीं होते थे। उन्होंने अपनी किताब 'राहुल द्रविड़ - टाइमलेस स्टील' में लिखा कि टीम की कामयाबी का जश्न सभी नहीं मनाते थे। कुछ खिलाड़ियों को उनकी सफलता से डर लगता था और वे राहुल के खिलाफ रहते थे। उन्होंने कहा कि यदि उन्होंने पूरे दिल से राहुल का उसी तरह साथ दिया होता, जितना राहुल ने दूसरों का दिया तो भारतीय क्रिकेट का ताजा इतिहास अलग होता। वह भारत के सबसे सफल कप्तान बन सकते थे। चैपल ने अपनी किताब में यह माना कि उन्हें द्रविड़ से अतिरिक्त लगाव था। पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान ने बताया कि कैसे द्रविड़ की अगुआई में भारत ने लगातार नौ वनडे जीते थे। उन्होंने बताया, 'द्रविड़ टॉस जीतकर विरोधी टीम को बल्लेबाजी का न्योता देते थे और फिर मोर्चे से अगुआई करते हुए टीम को जीत दिलाते थे। उनकी अगुआई में टीम ने लक्ष्य का पीछा करते हुए लगातार रिकॉर्ड 17 जीत दर्ज की।'चैपल ने अपनी किताब में लिखा, 'टेस्ट मैचों में भी द्रविड़ ने यही रणनीति अपनाई और विदेशी सरजमीं पर जीत दर्ज की। उनकी अगुआई में टीम ने वेस्टइंडीज में 35 साल बाद तो दक्षिण अफ्रीका में पहली बार कोई टेस्ट मैच जीता। दक्षिण अफ्रीका में टीम टेस्ट सीरीज भी जीत सकती थी, लेकिन भारतीय खिलाड़ियों ने दूसरे टेस्ट की दूसरी पारी में खराब बल्लेबाजी की।'