16 February 2019



राष्ट्रीय
आज इंटरनेट कनेक्शन पड़ सकता है ठप,बचे ऐसे
09-07-2012

नई दिल्ली। इंटरनेट का इस्तेमाल करने वाले दुनियाभर के करोड़ों उपभोक्ता सोमवार को इसकी सेवा से वंचित हो सकते हैं। वेब सुरक्षा कंपनी मैकएफी के मुताबिक डीएनएसचेंजर नामक वायरस लाखों कंप्यूटरों में इंटरनेट कनेक्शन ठप कर सकता है।भारत में करीब 21 हजार कंप्यूटरों पर इसका असर पड़ने की आशंका है। डीएनएसचेंजर एक मालवेयर कंप्यूटर प्रोग्राम है जो इंटरनेट ट्रैफिक को फर्जी वेबसाइट की ओर मोड़ता है।मैकएफी का कहना है कि डीएनएसचेंजर सीधे कंप्यूटर को प्रभावित करता है जिसके फलस्वरूप इंटरनेट सेवा ठप हो जाती है। लाखों कंप्यूटरों को इससे संक्रमित होने का खतरा है। अमेरिकी खुफिया एजेंसी एफबीआइ ने पिछले साल 'आपरेशन गोस्ट क्लिक' के तहत साइबर अपराधियों के सर्वरों को कब्जे में लिया था। इनसे प्रभावित सर्वरों को अस्थाई तौर से वैध सर्वरों से जोड़ दिया गया था। इन्हें 9 जुलाई, 2012 तक के लिए ही जोड़ा गया था। इस अवधि के समाप्त होते ही डीएनएसचेंजर मालवेयर से प्रभावित लाखों कंप्यूटरों में इंटरनेट से जुड़ी समस्या फिर सामने आ सकती है।मैकएफी के प्रवक्ता के मुताबिक अमेरिका और इटली के बाद भारत दुनिया का तीसरा देश होगा जहां सबसे ज्यादा कंप्यूटर इससे संक्रमित होंगे।डीएनएसचेंजर वर्किग ग्रुप [डीसीडब्ल्यूजी] के आंकड़ों के अनुसार दुनिया के करीब तीन लाख कंप्यूटर इससे प्रभावित होंगे। अमेरिकी में 69,500 कंप्यूटर, इटली में 26,500 और भारत में करीब 21,300 कंप्यूटर इस वायरस की चपेट में आएंगे। भारतीय अधिकारियों की मानें तो यहां करीब 50 हजार कंप्यूटर इससे प्रभावित हो सकते हैं। नई दिल्ली। दुनियाभर के इंटरनेट यूजर्स को आज का दिन परेशानी में डाल सकता है। आज इंटरनेट सेवा पूरी तरह ठप पड़ सकती है। तमाम वेबसाइट्स और ब्लॉग्स इसकी चेतावनी दे रहे हैं। डीएनएस चेंजर वायरस दुनिया भर के करीब 2.5 लाख कंप्यूटर्स को जद में ले चुका है। अच्छी बात यह है कि आप इस वायरस को अपने कंप्यूटर से हटा सकते हैं। आपका इंटरनेट ठप न हो इसके लिए क्या करना है आइए आपको बताते हैं.-अपने कंप्यूटर में यह वायरस ऐसे चेक करें  आपके कंप्यूटर में यह खतरनाक वायरस है या नहीं, इसका पता आप कुछ सेंकड्स में लगा सकते हैं। वेबसाइट डब्लयूडब्लयूडब्लयू.डीएनएस-ओके.सीए/ पर जाएं और पेज के सबसे नीचे आई एग्री पर क्लिक करें। अब जो पेज खुलेगा, उसमें अगर हरे रंग का बैनर दिख रहा है, तो खुश हो जाइए। हरे रंग के बैनर का मतलब है कि आपके कंप्यूटर में यह वायरस नहीं है।अगर लाल रंग के बैनर के साथ यह संदेश लिखा आता है कि आपके कंप्यूटर में वायरस है, तो भी आपको ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं क्योंकि आप इसे आसानी से स्कैन करके हटा सकते हैं।-वायरस चेक करने का दूसरा तरीका आपके कंप्यूटर में यह वायरस है या नहीं, इसे आप मैन्युअली भी चेक कर सकते हैं। माइक्रोसॉफ्ट विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम यूज करते हैं तो स्टार्ट मैन्यू पर क्लिक करें। रन पर क्लिक करें। वहा सीएमडी.ईएसई टाइप करके इंटर दबाएं। अब जो काले रंग की कमाड विंडो खुले, उसमें आईपीकॉनफिग/ऑल टाइप करके इंटर दबाएं। वहा जो जानकारी आए उसमें देखिए कि आपके कंप्यूटर का आईपी अड्रेस और डीएनएस सर्वर नीचे दिए गए नंबरों से मेल खाता है या नहीं। अगर यह नीचे दिए गए नंबरों की सीरीज से मेल खाता है तो आपके कंप्यूटर में वायरस है।-एपल यूज करते हैं तो सिस्टम प्रीफरेंसेज पर जाएं। नेटवर्क सिलेक्ट करें। कनेक्शन यूज्ड फॉर इंटरनेट एक्सेस [ज्यादातर एयरपोर्ट या इथरनेट] पर क्लिक करें। एडभास पर क्लिक करें। डीएनएस टैब पर क्लिक करें।-कंप्यूटर में वायरस है तो क्या करें-इस वायरस को हटाने के लिए कई उपाय इंटरनेट पर मौजूद हैं। फ्री वायरस स्कैन ऐंड रिमूवल सॉफ्टवेयर्स के   लिए डब्लयूडब्लयूडब्लयू.डीसीडब्लयूजी.ओआरजी/फिक्स/पर जा सकते हैं। लेकिन इससे पहले अपने जरूरी डेटा का बैकअप ले लें और वायरस मिलने पर किसी अच्छे कंप्यूटर प्रोफेशनल से भी सलाह लें।