19 February 2019



खेलकूद
फेडरर फिर बने टेनिस के बादशाह
09-07-2012

विंबलडन [दिलीप मेहता]। रोजर फेडरर ने रविवार को एक बार फिर साबित कर दिया कि क्यों उन्हें ग्रास कोर्ट का बादशाह कहा जाता है। स्विस खिलाड़ी फेडरर ने एक सेट से पिछड़ने के बाद जबर्दस्त वापसी करते हुए स्थानीय हीरो एंडी मरे को हराकर अपना सातवां विंबलडन एकल खिताब हासिल किया। उन्होंने इस खिताबी जीत के साथ विलियम रेनशॉ और पीट सम्प्रास के सात-सात खिताबों के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली। फेडरर इस जीत के साथ ही दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी भी बन गए और 76 वर्षो बाद विंबलडन एकल खिताब जीतने की ब्रिटिश उम्मीदों पर पानी फेर दिया। मरे चौथी बार किसी ग्रैंड स्लैम प्रतियोगिता के फाइनल में पराजित हुए हैं। अपना आठवां विंबलडन फाइनल खेल रहे फेडरर ने वर्षा से प्रभावित यह खिताबी मुकाबला 4-6, 7-5, 6-3, 6-4 से जीता। उन्हें इसके लिए तीन घंटे, 20 मिनट तक संघर्ष करना पड़ा। फेडरर का यह रिकॉर्ड 17वां ग्रैंड स्लैम खिताब हैं। मरे ने मुकाबले की शानदार ढंग से शुरुआत करते हुए पहले ही गेम में फेडरर की सíवस भंग कर दी थी। फेडरर चौथे गेम में मरे की सíवस भंग करते हुए बराबरी पर आए, लेकिन वह नौवें गेम में अपनी सíवस बरकरार नहीं रख पाए। मरे ने अपनी सíवस पर दसवां गेम जीतते हुए पहला सेट 57 मिनट में अपने नाम किया। दर्शकों के अपार प्रोत्साहन के बीच मरे उम्दा प्रदर्शन कर रहे थे, लेकिन फेडरर ने संयम नहीं खोया और एकाग्रता बनाए रखी जिसका लाभ उन्हें दूसरे सेट के 12वें गेम में मिला। इस गेम में मरे की सíवस भंग करते हुए दूसरा सेट जीतकर फेडरर मैच में 1-1 की बराबरी पर आ गए। एक बार बराबरी पर आने के बाद फेडरर ने पलटकर नहीं देखा। तीसरे सेट में दो गेमों के बाद बारिश के कारण खेल रोका गया। इससे प्रभावित हुए बिना फेडरर ने छठे गेम में मरे की सíवस भंग करते हुए इस सेट को आसानी से जीत लिया। फेडरर को चौथे सेट में मरे की सíवस सिर्फ एक बार सíवस भंग करनी पड़ी और उन्होंने यह सेट 6-4 से जीतते हुए मैच तथा खिताब अपने नाम कर लिया। जीत के बाद फेडरर ने कहा, 'दो वर्ष के अंतराल के बाद विंबलडन खिताब जीतकर अद्भुत अनुभूति हो रही है। मुझे खुशी है कि मैंने अपने हीरो पीट सम्प्रास के यहां सात खिताब जीतने के रिकॉर्ड की बराबरी की। मैंने पिछले कुछ मैचों में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया, फिर से नंबर वन बनकर अच्छा लग रहा है। एंडी मरे एक जबर्दस्त खिलाड़ी हैं और वह पिछले कई वर्षो से लगातार बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं। वे एकाध ग्रैंड स्लैम खिताब तो जीत ही लेंगे।' दूसरी ओर हार से निराश मरे ने कहा, 'मैं आगे इस खिताब को जीतने की कोशिश करूंगा, हालांकि यह आसान नहीं होगा। मैं रोजर को जबर्दस्त खेल के लिए बधाई देता हूं, वह जीत के हकदार थे। मैं अपने समर्थन के लिए सभी का शुक्रिया अदा करता हूं। आप सभी ने उम्दा कार्य किया। सभी विंबलडन में दबाव की बात करते हैं, लेकिन इसे देखने वाले दर्शक इसे अद्भुत बनाते हैं।'