16 February 2019



खेलकूद
ताइबू का चौंकाने वाला फैसला
11-07-2012

हरारे। जिंबाब्वे के पूर्व कप्तान तातेंदा ताइबू ने मंगलवार को एक चौंकाने वाला फैसला लिया। उन्होंने भगवान की सेवा करने के लिए क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा की है। ताएबू का कहना है कि अब वह चर्च के लिए काम करने पर अपना ध्यान केंद्रित करना चाहते है।अनुभवी विकेटकीपर बल्लेबाज 29 वर्षीय ताइबू ने जिंबॉब्वे की ओर से 28 टेस्ट और 150 एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं। उनका संन्यास का फैसला अप्रत्याशित है, क्योंकि उन्हे सितंबर में आयोजित होने वाले ट्वेंटी-20 विश्व कप के लिए जिंबॉब्वे की संभावित टीम में शामिल किया गया था।वर्ष 2004 में टेस्ट इतिहास के सबसे युवा कप्तान बने ताइबू ने 11 साल तक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेला है। उन्होंने 18 साल की उम्र में 2001 में राष्ट्रीय टीम में एंडी फ्लॉवर की जगह संभाली थी। वेबसाइट 'क्रिक इंफो डॉट कॉम' के मुताबिक उन्होंने कहा, 'मुझे ऐसा लगता है कि मेरी असली श्रद्धा अब ईश्वर के काम करने में निहित है। मैं भाग्यशाली हूं कि मुझे देश के लिए खेलने का मौका मिला और मुझे इस पर गर्व है। मुझे अपने जीवन पर पूरा ध्यान केंद्रित करने का अब समय आ गया है।'ताइबू ने टेस्ट मैचों में 1546 रन बनाए है, जिसमें एक शतक और 12 अ‌र्द्धशतक शामिल है। एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में उनके नाम 3393 रन दर्ज हैं, जिसमें दो शतक और 22 अ‌र्द्धशतक शामिल है। 17 ट्वेंटी-20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में ताइबू के नाम 259 रन दर्ज हैं, जिसमें नाबाद 45 रन सर्वश्रेष्ठ व्यक्तिगत स्कोर है। वह एकदिवसीय क्रिकेट में जिंबाब्वे के दूसरे सबसे सफल विकेटकीपर हैं। उनसे ज्यादा शिकार सिर्फ फ्लॉवर ने किए हैं।