19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
आधी दुनिया डरी हुई आज
13-07-2012

नई दिल्ली। बच के रहना..। जाने कल क्या हो..। डर गए? अरे डरिये मत, हम डरा नहीं रहे हैं, लेकिन कुछ लोग हैं जो बहुत डरे हुए हैं। जी हां, आधी दुनिया डरी हुई है। डर कल का है। फ्यूचर वाले कल का नहीं, कल वाले कल का। यानी 13 तारीख-दिन शुक्रवार का। हर बार की तरह पश्चिम के लोग इस दिन और दिनांक से फिर भयभीत हैं। उन्हें हर तरह का डर सता रहा है। हर कोई अपनी जान बचाने और किसी भी तरह के नुकसान से बचने की सोच रहा है। हम कोरी गप्प नहीं मार रहे बल्कि पुख्ता आंकड़ों के बूते यह कह रहे हैं कि आधी दुनिया डरी हुई है इस कल से। यकीन न हो तो दुनियाभर की एयर लाइंसेज की ऑफीशियल वेबसाइट्स पर जाकर आप कन्फर्म कर सकते हैं कि हम सच कह रहे हैं। इस दिन के लिए एयर लाइंसेज के पास बहुत कम बुकिंग हैं। इस दिन की फ्लाइट बुकिंग पर फिफ्टी पर्सेट ऑफ दे रही हैं एयर लाइंस। आखिर ऐसा क्या होने वाला है कल? अंग्रेजों की मानें तो हो सकता है कल को दुनिया ही खत्म हो जाए। वैसे भी 2012 में दुनिया के अंत की अटकलें अरसे से चल रही हैं। कहीं कयामत का यह दिन कल ही तो मुकर्रर नहीं है? अंग्रेज इस बात से भी डरे हुए हैं।दरअसल, अंग्रेज यानी पश्चिम जगत के लोग 13 और शुक्रवार, दोनों को अशुभ मानते हैं। ऐसा तब से माना जा रहा है, जब से ईसाईयत अस्तित्व में है। और जब 13 और शुक्रवार साथ मिल जाएं तो वही होता है, जो हो रहा है। डर के मारे हाल बेहाल हो रहे हैं अंग्रेज। 13 का आंकड़ा वैसे पूरब में भी कुछ ठीक नहीं माना जाता है, लेकिन अपने यहां इसे लेकर इतनी हाय-तौबा नहीं है। क्रिश्चियन मान्यता के अनुसार 13 और शुक्रवार शैतानी फिगर है। यह मान्यता इसलिए है क्योंकि ईसा मसीह को जिस दिन सूली पर चढ़ाया गया था, वो दिन शुक्रवार ही था। हालांकि इस दिन को क्रिश्चियंस 'ग्रुड फ्राईडे' के रूप में मनाते हैं, लेकिन इसे अशुभ का प्रतीक मानते हैं। वहीं, जीसस को जिन लोगों ने सूली पर चढ़ाया था, उनकी संख्या 13 थी। उनका कहना है कि 13 का आंकड़ा अपूर्ण है, जबकि 12 पूर्ण आंकड़ा है। साल में महीने 12 होते हैं और दिन में घंटे भी 12, लेकिन 13 अपूर्ण है। फोबिया (भय) इंस्टीट्यूट ऑफ एशविले, उत्तरी कैर्लीफोर्निया (अमेरिका) द्वारा की गई सोशल रिसर्च में माना गया है कि अमेरिकी की करीब 75 फीसद आबादी 13, शुक्रवार से बहुत भयभीत रहती है। आलम यह है कि लोग इस दिन घर में घुसे रहते हैं। दूर की यात्रा पर तो छोड़िये, दफ्तर तक नहीं जाते। अमेरिका की ही बात करें तो इस एक दिन के एवज में करीब एक अरब अमेरिकी डॉलर का घाटा वहां के बिजनेस को उठाना पड़ता है, क्योंकि लोग इस दिन काम-धाम छोड़ कर घरों में बंद हो जाते हैं। नीदरलैंड्स का एक आंकड़ा बेहद चौंकाने वाला है। यहां की डच इंश्योरेंस कंपनी पिछले कुछ साल से इस दिन, यानी 13-शुक्रवार को होने वाली दुर्घटनाओं की लिस्ट बना रही है। उसके मुताबिक इस दिन पूरे देश में औसत 7500 दुर्घटनाएं दर्ज होती हैं, जिनमें से अधिकांश सड़क हादसे होते हैं। यह वह आंकड़ा है, जो इस इंश्योरेंस कंपनी से बीमा-कवर क्लेम करने वालों की संख्या है, इसके अलावा क्या हाल होगा, उसका अंदाज लगाया जा सकता है। दुर्घटनाएं इसलिए ही होती हैं कि लोग डरे हुए होते हैं। कुछ लोग नहीं भी डरते। वे इसे महज अंधविश्वास करार देते हैं। 2012 में जनवरी और जुलाई में भी शुक्रवार 13 तारीख को पड़ चुका है। यह तीसरी बार है जब इस साल यह आ रहा है।कब-कब आया/आएगा फ्राईडे13 :जनवरी 1978, 1984, 1989, 1995, 2006, 2012, 2017, 2023फरवरी 1976, 1981, 1987, 1998, 2004, 2009, 2015, 2026मार्च 1981, 1987, 1992, 1998, 2009, 2015, 2020, 2026अप्रैल 1973, 1979, 1984, 1990, 2001, 2007, 2012, 2018मई 1977, 1983, 1988, 1994, 2005, 2011, 2016, 2022जून 1975, 1980, 1986, 1997, 2003, 2008, 2014, 2025जुलाई 1973, 1979, 1984, 1990, 2001, 2007, 2012, 2018अगस्त 1976, 1982, 1993, 1999, 2004, 2010, 2021, 2027सितंबर 1974, 1985, 1991, 1996, 2002, 2013, 2019, 2024अक्टूबर 1978, 1989, 1995, 2000, 2006, 2017, 2023, 2028 नवंबर 1981, 1987, 1992, 1998, 2009, 2015, 2020, 2026 दिसंबर 1974, 1985, 1991, 1996, 2002, 2013, 2019, 2024