19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
जरदारी के खिलाफ भ्रष्टाचार के मुकदमों की दोबारा हो जॉंच
13-07-2012

इस्लामाबाद। पाकिस्तान की सर्वोच्च अदालत ने प्रधानमंत्री राजा परवेज अशरफ को आदेश दिया है कि वह राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी के खिलाफ भ्रष्टाचार के मुकदमों को दोबारा खोलने के लिए स्विस अधिकारियों को पत्र लिखें। जस्टिस आसिफ सईद खोसा के नेतृत्व वाली सुप्रीम कोर्ट की पाच सदस्यीय पीठ ने प्रधानमंत्री को 25 जुलाई तक अदालती आदेश पर अमल करने का निर्देश दिया है।कोर्ट ने साफ किया कि अगर फैसले पर अमल नहीं हुआ तो प्रधानमंत्री के खिलाफ कार्रवाई होगी। कोर्ट ने अपने फैसले में पूर्व प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी का भी हवाला देते हुए कहा कि उनके खिलाफ भी कोर्ट की अवमानना करने की कार्रवाई इसलिए शुरू हुई थी क्योंकि उन्होंने अदालत के फैसले पर अमल नहीं किया था।अदालत ने सूचना मंत्री कमर जमां काइरा के बुधवार को केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक के बाद पत्रकार वार्ता में दिए बयान की भी समीक्षा की। राष्ट्रपति जरदारी को कानूनी कार्रवाई से संरक्षण के मुद्दे पर अदालत का कहना था कि सुप्रीम कोर्ट की ओर से जो छह प्रस्ताव दिए गए थे, उनमें चौथा प्रस्ताव यह था कि अगर राष्ट्रपति को संरक्षण हासिल है तो इस मामले में कोर्ट में तर्क पेश किए जाएं, लेकिन पूर्व प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी के वकील ने कोई दलील पेश नहीं की। कोर्ट ने गिलानी को अवमानना का नोटिस दिया था और बाद में उन्हें इसका दोषी करार देते हुए प्रधानमंत्री पद के अयोग्य ठहराया था।