24 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
सुनीता विलियम्स फिर अंतरिक्ष के लिए उड़ान भरने को तैयार
14-07-2012

-सुनीता के रिकॉर्ड -बतौर महिला अंतरिक्ष यात्री, उनके नाम सर्वाधिक समय अंतरिक्ष में बिताने का रिकार्ड दर्ज हैं। वह अंतरिक्ष में कुल 195 दिन बिता चुकी हैं।-सबसे ज्यादा बार स्पेस वाक करने का भी रिकॉर्ड सुनीता के ही नाम है।-सबसे अधिक समय अंतरिक्ष में बिताने का रिकॉर्ड भी उनके ही नाम है। नई दिल्ली। भारतीय मूल की अमेरिकी अंतरिक्ष विज्ञानी सुनीता विलियम्स शनिवार को एक बार फिर अंतरिक्ष के लिए उड़ान भरने को तैयार हैं और उनकी इस उपलब्धि को लेकर उनके गृहनगर अहमदाबाद में खुशी की लहर है। यहां के लोग अपने राज्य की बेटी की इतनी बड़ी उपलब्धि पर खुशी से फूले नहीं समा रहे हैं। बच्चों में अपनी सुनीता दीदी के बारे में जानने को लेकर काफी उत्साह है तो बड़ों को राज्य का नाम रोशन होने पर गर्व है। यहां के तकनीकि संस्थान साइंस सिटी के वरिष्ठ वैज्ञानिक नरोत्तम साहू ने बताया, 'हम लोगों ने बच्चों को इंटरनेशनल स्पेश स्टेशन के बारे में जानकारी देने के लिए शुक्रवार को विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया था।'नासा का स्पेस यान सुनीता और उनकी टीम को लेकर बैकनूर (कजाखिस्तान) स्थित प्रक्षेपण केंद्र से रवाना होगा। भारतीय मूल के अमेरिकी पिता और स्लोवानियाई मा की संतान सुनीता दूसरी बार अंतरिक्ष की यात्रा करेंगी। इससे पहले वह 2006 में अंतरिक्ष में जा चुकी हैं। तब वह रिकार्ड छह माह तक स्पेस स्टेशन में रहीं थीं। सुनीता का मिशन इस बार भी खास है। वह और उनका दल अंतरिक्ष स्टेशन में रिसर्च के अलावा दो बार स्टेशन से बाहर जाकर भी रिसर्च करेगा। सुनीता को फ्लाइट इंजीनियर का जिम्मा सौंपा गया है। बता दें कि गुजरात से ताल्लुक रखने वाली सुनीता दूसरी भारतीय महिला हैं, जिसने बतौर अंतरिक्ष विज्ञानी अंतरिक्ष की यात्रा की। सुनीता से पहले नासा की ओर से भारतीय मूल की कल्पना चावला ने अंतरिक्ष की यात्रा की थी, लेकिन वापसी में एक दुखद दुर्घटना में उनकी और उनके दल के सभी सदस्यों की मौत ने दुनिया को झकझोर डाला था।अब सुनीता की अंतरिक्ष यात्रा मंगलमय हो, इसके लिए गुजरात और राजस्थान में जगह-जगह प्रार्थना सभाओं का आयोजन किया जा रहा है। सुनीता ने 1987 में अमेरिकी नेवल अकादमी से शिक्षा ग्रहण करने के बाद नेवी में विभिन्न पदों पर काम किया। 1998 में वह नासा (नेशनल एयरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन, अमेरिका) द्वारा चुनी गईं और अंतरिक्ष विज्ञानी बन गई।