16 February 2019



राष्ट्रीय
सरकार के खिलाफ अन्ना-रामदेव मिलकर भरेंगे हुंकार
18-07-2012

पुणे.  बाबा रामदेव और अन्ना हजारे लोकपाल व कालेधन के मुद्दे पर मिलकर आंदोलन शुरू करने जा रहे हैं। हजारे लोकपाल के मसले पर 25 जुलाई से अनिश्चितकालीन प्रदर्शन शुरू करेंगे। उनके इस आंदोलन में नौ अगस्त से रामदेव भी कालेधन का मुद्दा लेकर साथ आ जाएंगे।हजारे व रामदेव ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि वे इस लड़ाई में एक-दूसरे का साथ देंगे। हजारे ने कहा, 'रामदेव कालेधन को वापस लाने के लिए लड़ रहे हैं। वहीं हमारी टीम मजबूत लोकपाल की मांग कर रही है। लेकिन सरकार का दोनों मांगों में से किसी को भी पूरा करने की मंशा नहीं है। मुमकिन है कि सरकार में कुछ ऐसे लोग हों जिनका काला धन विदेशों में जमा हो। जिस वजह से वे इस दिशा में कोई सख्त कदम नहीं उठाना चाहते।'रामदेव ने कहा, 'सरकार के खिलाफ नौ अगस्त से निर्णायक आंदोलन किया जाएगा। अन्ना हजारे इस आंदोलन में संरक्षक की भूमिका में रहेंगे।'दूसरी तरफ, प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्यमंत्री वी. नारायणसामी ने सोमवार को हजारे को एक पत्र लिखा। इसमें उन्होंने लोकपाल और काले धन की वापसी के लिए सरकार की प्रतिबद्धता के बारे में बताया। उन्होंने पत्र में लिखा, 'सरकार सख्त कानून लाने के लिए प्रतिबद्ध है। लेकिन इसके लिए थोड़ा समय लगेगा। मुझे उम्मीद है कि हम सब मिलकर इस दिशा में अच्छा काम कर सकेंगे।'सलमान खुर्शीद से मुलाकात पर चुप रहे अन्ना कानून मंत्री सलमान खुर्शीद से हुई गोपनीय मुलाकात के बारे में हजारे ने कोई बात नहीं की। सूत्रों के अनुसार दोनों की मुलाकात पुणे-नासिक हाईवे से करीब ९० किमी दूर स्थित फिरोदिया गेस्ट हाउस में हुई थी। इस दौरान दोनों के बीच क्या चर्चा हुई इस बारे में भी कोई जानकारी नहीं मिली है।