19 February 2019



खेलकूद
धोनी की मायूसी, पता नहीं 2013 तक जिंदा भी रहूंगा या नहीं
31-01-2012

सिडनी.टीम इंडिया के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी पर खराब प्रदर्शन को लेकर चारों तरफ से दबाव पड़ रहा है। इसी मायूसी को धोनी ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में जगजाहिर कर दिया।

 

धोनी ने कहा, "मैं टेस्ट क्रिकेट छोड़ने का मन बना रहा हूं। लेकिन यह 2013 के अंत में होगा यानी दो साल बाद। हम इतना ज्यादा खेल रहे हैं कि मुझे नहीं पता कि तब तक मैं जिंदा भी रहूंगा या नहीं।"

 

उल्लेखनीय है कि धोनी ने पर्थ टेस्ट से पहले टेस्ट छोड़ने के संकेत दिए थे। सिडनी में होने वाले टी-20 मैच से पहले उन्होंने अपने उसी बयान पर दोबारा से सफाई दी है।

 

धोनी ने कहा, "आजकल हम सिर्फ कैलेंडर के हिसाब से नहीं चलते। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के अलावा आईपीएल, चैंपियन्स लीग जैसे टूर्नामेंट में साथ-साथ खेलने होते हैं। हम खिलाड़ियों को अपने शरीर को आराम देने का पूरा मौका नहीं मिल पाता। पहले का जमाना और था जब दो श्रृंखलाओं के बीच इतना अंतर होता था कि शरीर को आराम मिल जाता था।"

 

धोनी पहले भी क्रिकेट की अधिकता की शिकायत करते रहे हैं। एकबार फिर उन्होंने टीम के खराब प्रदर्शन के लिए इसको जिम्मेदार माना है।

 

धोनी ने अपनी उदासी दिखाते हुए कहा, "अब तो मुझे यह लग रहा है कि मैं अगला विश्वकप नहीं खेल सकूंगा। मैं उतना फिट नहीं हूं कि अगले तीन साल तक लगातार क्रिकेट खेल सकूं। जब मैंने कहा कि मैं किसी एक प्रारूप को छोड़ूंगा तो उसका मतलब टेस्ट नहीं था। टेस्ट क्रिकेट का असली रूप है और मैं इसके प्रति गंभीर हूं।"