19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
रूस ने चेतावनी भरे लहजे में भारतीयों कंपनियों को कहा कि………..
23-07-2012

नई दिल्ली। रूस ने चेतावनी भरे लहजे में कहा है कि भारत में रूसी दूरसंचार कंपनी सिस्तेमा के समक्ष आ रही दिक्कतों के चलते तेल एवं गैस क्षेत्रों में भारत का निवेश भी प्रभावित हो सकता है। उसने साफ किया है सिस्तेमा की ओर से भारत में किए गए 3.1 अरब डॉलर के निवेश को किसी भी हाल में गर्त में नहीं जाने दिया जाएगा। रूस ने साफ किया है कि यदि ऐसा हुआ तो वह रूस में भारतीय कंपनियों को निवेश नहीं करने देंगे। सिस्तेमा का दूरसंचार लाइसेंस सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद रद हो चुका है। भारत में रूस के राजदूत एलेक्जेंडर एम कदाकिन ने कहा, 'यदि हमारे निवेश के साथ इस तरह की चीजें होती रहीं, तो हम अपने यहा कोई निवेश नहीं होने देंगे।' रूस में भारतीय निवेश का स्वागत करते हुए उन्होंने उल्लेख किया कि ओएनजीसी विदेश (ओवीएल) ने सुदूर पूर्व के रूसी तेल एवं गैस क्षेत्र सखालिन-एक में दो अरब डॉलर का निवेश किया है।कदाकिन ने एक टीवी चैनल से साक्षात्कार में कहा कि रूसी सरकार सिस्तेमा के निवेश को बेकार नहीं जाने देगी। यह रूसी करदाताओं का भी पैसा है। इसमें सरकार का हिस्सा लगभग एक अरब डॉलर है। सिस्तेमा की संयुक्त उपक्रम सिस्तेमा श्याम टेलीसर्विसेज में 56.68 प्रतिशत हिस्सेदारी है। 2जी घोटाला सामने आने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने फरवरी में 122 लाइसेंस रद किए थे। इनमें सिस्तेमा के 22 में से 21 लाइसेंस शामिल हैं।