19 February 2019



राष्ट्रीय
अफजल गुरु की दया याचिका के बारे में अभी कोई बात नहीं
24-07-2012

नई दिल्ली. नवनिर्वाचित राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा है कि वे अफजल गुरु की दया याचिका के बारे में अभी कुछ नहीं कहेंगे। अफजल दिसंबर 2001 में संसद पर हुए आतंकी हमले का दोषी है। उसकी फांसी की सजा पर 2004 में मुहर लगाई थी। इसके बाद से उसकी दया याचिका राष्ट्रपति के पास लंबित है।राष्ट्रपति चुने जाने के बाद दिए अपने पहले इंटरव्यू में मुखर्जी ने कहा, 'जब तक मैं कार्यभार नहीं संभाल लेता इस मसले पर कुछ नहीं कहूंगा। मैं इस मुद्दे पर ठीक तरह से अध्ययन करने के बाद ही कोई निर्णय लूंगा।' प्रणब से शिवसेना प्रमुख बाला साहब ठाकरे की मांग के संबंध में प्रतिक्रिया मांगी गई थी।पार्टी मुखपत्र 'सामना' में ठाकरे ने सोमवार को ही लिखा, 'हम सबको प्रणब मुखर्जी से बहुत उम्मीदें हैं। उन्हें सबसे पहले अफजल की दया याचिका खारिज कर देनी चाहिए। जिस आतंकी ने देश की प्रभुसत्ता पर हमला किया उसे जिंदा रहने का हक नहीं है। आपको (प्रणब को) यह पवित्र कार्य करना होगा।'