16 February 2019



राष्ट्रीय
असम में जारी जातीय हिंसा में मृतकों की संख्या पहुंची 21
24-07-2012

कोकराझार (असम). असम में जारी जातीय हिंसा में मृतकों की संख्या 21 पहुंच गई है। कोकराझार में सोमवार को दो शव बरामद किए गए। जिले में अनिश्चितकालीन कर्फ्यू लगाया गया है। देखते ही गोली मारने का आदेश जारी किया गया है। बीटीएडी के आईजीपी एसएन सिंह ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा, 'राज्य में सोमवार को हिंसा की कई घटनाएं हुईं। सबसे ज्यादा प्रभावित जिला कोकराझार है। यहां कर्फ्यू लगाया गया है। पुलिस और सुरक्षाबलों को देखते ही गोली मारने का आदेश दिया गया है।'जिले में शांति स्थापित करने के लिए 1400 अर्धसैनिक बल भेजे गए हैं। राज्य में ९००० अर्धसैनिक बल पहले से तैनात हैं। पुलिस के मुताबिक सोमवार को कोकराझार के कुछ इलाकों में लोगों के घर उजाड़ दिए गए। गुस्साए लोगों ने राजधानी एक्सप्रेस को काफी देर तक रोके रखा। धुबरी और चिरांग जिले में भी हिंसा हुई। धुबरी में पुलिस से झड़प में सात लोग घायल हुए हैं। ऑल असम माइनॉरिटी स्टूडेंट्स ने सोमवार को बंद का आह्वान किया था। उसके समर्थकों ने लोगों से मारपीट भी की। रोकने पर वे पुलिस से ही भिड़ गए। धुबरी और चिरांग में शाम छह बजे से सुबह छह बजे तक कफ्र्यू रहेगा।8000 वर्ग किमी. क्षेत्र में फैली हिंसा गृहमंत्री पी. चिदंबरम ने घटना की विस्तृत जानकारी के लिए राज्य के मुख्यमंत्री तरुण गोगोई से फोन पर बात की। गोगोई ने एहतियातन कदमों की जानकारी दी। असम के अधिकारियों के मुताबिक, राज्य के ८००० वर्ग किमी. में फैले ४०० गांव हिंसा की चपेट में हैं। प्रदेश में शुक्रवार रात बोडो लिबरेशन टाइगर के चार कैडरों की हत्या कर दी गई थी। तभी से बोडो एवं अल्पसंख्यक प्रवासियों के बीच संघर्ष जारी है।