19 February 2019



खेलकूद
कपिल देव और बीसीसीआइ के बीच मतभेद खत्म
25-07-2012

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम के पहले विश्व चैंपियन कप्तान व पूर्व तेज गेंदबाज कपिल देव और बीसीसीआइ के बीच मतभेद खत्म हो गए हैं। इंडियन क्रिकेट लीग [आइसीएल] के साथ जुड़ने के कारण कपिल के रिश्ते बोर्ड के साथ बहुत खराब हो गए थे। कपिल की वापसी के साथ ही उनको भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड से मिलने वाले डेढ़ करोड़ रुपये के बोनस भुगतान का रास्ता साफ हो गया है। बीसीसीआइ की ओर से जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि बोर्ड मुख्यालय में आज सुबह 1983 में विश्व कप जीताने वाले कप्तान कपिल देव ने बोर्ड अध्यक्ष एन श्रीनिवासन से मुलाकात की। बीसीसीआइ ने कपिल देव से एक पत्र प्राप्त किया जिसमें बोर्ड को सूचित करते हुए लिखा गया है कि उन्होंने एस्सेल स्पोटर्स प्राइवेट लिमिटेड/आईसीएल से इस्तीफा दे दिया है। साथ ही पत्र में यह भी लिखा है कि वह बोर्ड का समर्थन करने के अलावा भविष्य में साथ में काम करना पसंद करेंगे। जारी प्रेस विज्ञप्ति में श्रीनिवासन की ओर से लिखा गया है कि कपिल देव ने भारतीय क्रिकेट में अमूल्य योगदान दिया है और वर्षो बाद उनसे जुड़ना बहुत सुखद है। बीसीसीआइ अब सौ से ज्यादा टेस्ट मैच खेलने वाले कपिल को एकल बोनस भुगतान के तहत डेढ़ करोड़ रुपये प्रदान करेगी। इसके अलावा उन्हें हर महीने बोर्ड की तरफ से 35 हजार रुपये मिला करेंगे। हालाकि बोर्ड के साथ सुलह होने पर खुश दिख रहे कपिल देव ने मीडिया से बात करने से बचने की कोशिश की। कपिल ने पत्रकारों से कहा कि बीसीसीआइ पैरेंटस की तरह है और हम उसके बच्चे की तरह होते हैं। मैंने हमेशा क्रिकेट और क्रिकेटरों के भले के लिए कार्य किया है। और आगे भी ऐसा करता रहूंगा। पूर्व महान क्रिकेटर 2007 में आइसीएल से जुड़ गए थे और बीसीसीआइ ने उसे मान्यता न देते हुए प्रतिबंध लगा दिया।