16 February 2019



राष्ट्रीय
आजम खां ने अपने इस्तीफे की खबर को बताया अफवाह
26-07-2012

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार में नंबर दो की हैसियत रखने वाले वरिष्ठ मंत्री आजम खां ने अपने इस्तीफे की खबर को बेबुनियाद बताया है। उन्होंने कहा हे कि उन्होंने इस तरह की कोई पेशकश नहीं की है। हालांकि उन्होंने माना कि मेरठ के प्रभारी पद से हटाए जाने पर उन्होंने राज्य के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को एक पत्र जरूर लिखा है। उन्होंने आरोप लगाया कि पत्र को लीक किया गया है और उनके इस्तीफा देने की पेशकश की खबरें पूरी तरह से मनघड़ंत हैं। इस बीच अखिलेश यादव ने भी कहा है कि आजम खान के नाराज होने की बात गलत है। उन्होंने कहा कि वह इस तरह से सरकार को कभी कमजोर करना नहीं चाहेंगे। आजम ने कहा कि उन्होंने पत्र के जरिए अपनी बात अखिलेश यादव तक पहुंचाई है। गौरतलब है कि मेरठ से सरकार में राज्य मंत्री बने शाहिद मंजूर और आजम के रिश्ते ठीक नहीं है। मंजूर ने भी अखिलेश को पत्र लिखकर शिकायत की थी कि आजम उनकी कोई बात नहीं सुनते हैं न ही उन्हें तवज्जो देते हैं। इसके बाद ही अखिलेश यादव ने आजम से मेरठ का प्रभार वापस ले लिया था। आजम खान द्वारा सीएम को पत्र भेजने के बाद से ही मीडिया में खबरें थीं कि आजम ने अपने इस्तीफे की पेशकश की है। उन्होंने मुख्यमंत्री से यह भी कहा था कि चूंकि कैबिनेट में उनसे काबिल मंत्री मौजूद हैं, इसलिए उन्हें मंत्रिमंडल से भी हटा दिया जाए। आजम की इस चिट्ठी के बाद सियासी हलचलें बढ़ गई थीं। हालांकि सरकार ने इस तरह की कोई चिट्ठी मिलने की पुष्टि नहीं की है।आजम बुधवार को दिल्ली में थे और चिट्ठी भेजकर उन्होंने गाजियाबाद व मुजफ्फरनगर के प्रभारी का दायित्व भी छोड़ने की पेशकश की है। पत्रकारों से फोन पर बातचीत में आजम ने कहा-'मेरे अंदर कम सलाहियत है, इसी बिनाह पर मुझे हटाया गया है। जब मेरे अंदर सलाहियत ही नहीं है तो मैं दूसरे जिलों के साथ कैसे न्याय कर पाऊंगा। लिहाजा मैंने दरख्वास्त की है कि मुझे वहां से भी छुंट्टी दे दें। उन्होंने कहा कि जब इतने काबिल लोग मौजूद हैं तो अगर मुख्यमंत्री चाहें तो मुझे मंत्रीमंडल से भी हटा दें।प्रदेश में सपा की सरकार बनने के बाद आजम को मेरठ, गाजियाबाद व मुजफ्फरनगर जिलों का प्रभारी मंत्री बनाया गया था। मुख्यमंत्री ने आजम को मेरठ से हटाकर पीलीभीत का प्रभार दे दिया। मेरठ में वरिष्ठ सपा नेता बलराम यादव को प्रभारी मंत्री बना दिया गया। सूत्रों के अनुसार मेरठ का प्रभारी मंत्री बनाए जाने के बाद से ही वहां के मंत्री शाहिद मंजूर व आजम समर्थकों के बीच लाबिंग शुरू हो गई थी।