19 February 2019



राष्ट्रीय
गुनाहगार हूँ तो लगा तो सरेआम फांसी:मोदी
26-07-2012

अहमदाबाद। गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात दंगों पर अपनी चुप्पी तोड़ते हुए कहा है कि यदि वह गुनाहगार हैं तो उन्हें सरेआम फांसी दे दी जानी चाहिए। उन्होंने यह बात एक उर्दू दैनिक को दिए इंटरव्यू के दौरान कही है। यह पहला मौका है जब कि मोदी ने किसी साप्ताहिक उर्दू अखबार को अपना इंटरव्यू दिया है। यह इंटरव्यू समाजवादी पार्टी के सांसद शाहिद सिद्दीकी ने लिया। इस इंटरव्यू के दौरान मोदी ने गुजरात दंगों को लेकर अपने ऊपर लगाए सभी आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया। उन्होंने साफ कहा कि यदि सरकार को या जनता को लगता है कि वह इन दंगों के लिए दोषी हैं तो उन्हें फांसी दे दी जाए। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि यदि वह निर्दोष हैं तो देश उनसे माफी मांगे। सिद्दीकी ने इंटरव्यू के बाद कहा कि मोदी के कहने भर से ही बात नहीं बनने वाली है जरूरत यह है कि इन दंगों के दोषियों को जब तक सजा नहीं मिल जाती है तब तक कुछ नहीं हो पाएगा। उन्होंने कहा कि इन दंगे के दोषी अभी भी सलाखों के बाहर हैं और दंगे के पीड़ितों को उनको मिलने वाली सजा का इंतजार है। सिद्दीकी ने कहा कि मोदी से गुजरात दंगों पर इंटरव्यू का फैसला उन्होंने बालीवुड के महेश भट्ट और सलीम खान से मुलाकात के बाद लिया। उन्होंने कहा कि उन्हें ऐसा लगता था कि मोदी इस मुद्दे पर इंटरव्यू देने से मना कर देंगे। हालांकि कुछ का मानना है कि क्योंकि मोदी गुजरात दंगों को दरकिनार कर अब अपनी छवि सुधारना चाह रहे हैं इसलिए यह बातें कही गई हैं।