19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
अमेरिका में आईएफएस ऑफिसर हुआ गिरफ्तार
27-07-2012

भुवनेश्वर/संबलपुर। अमेरिका में एक महिला को जबरन रोकने के आरोप में एक आईएफएस [इंडियन फॉरेस्ट सर्विस] ऑफिसर को गिरफ्तार किया गया है। सुरेंद्र प्रसाद महापात्र नाम के ऑफिसर पर जिस महिला को रोकने का आरोप लगा है, वह उसी होटल की स्टाफ है, जहा वह ठहरे हुए थे।सुरेंद्र संभलपुर के जंगलों के रीजनल चीफ ऑफ कंजरवेटर हैं। वह 30 ऑफिसर्स के साथ न्यूयॉर्क की सिराक्यूस यूनिवर्सिटी में एक ट्रेनिंग प्रोग्राम के लिए गए हैं। रिपोर्टो के मुताबिक 52 साल के सुरेंद्र अपने कमरे में इंटरनेट कनेक्ट नहीं कर पाए। इसके लिए उनके कमरे में एक महिला स्टाफ को भेजा गया। सुरेंद्र की पत्नी सीमा ने कहा कि मेरे पति ने मुझे बताया कि वह महिला भी इंटरनेट कनेक्ट नहीं कर पाई। इस पर उन्होंने उसे कुछ गलत तरीके से बोल दिया। इसके बाद महिला ने शिकायत दर्ज करा दी। मेरे पति थोड़ा गुस्सैल मिजाज के लेकिन सख्त ऑफिसर हैं। वह किसी से बदतमीजी या कोई गलत काम नहीं करेंगे।सुरेंद्र के साथियों और सीनियर्स का मानना है कि यह मामला गलतफहमी का हो सकता है। एक फॉरेस्ट ऑफिसर एससी खुंटिया ने बताया कि हमें लग रहा है कि पुलिस ने उन्हें गलती से पकड़ लिया है। इसमें काफी गलतफहमी की गुंजाइश है। सुरेंद्र के फ्लोर पर ही ठहरे ट्रेनिंग प्रोग्राम के कोऑर्डिनेटर धीरेंद्र भार्गव ने कहा कि वह बड़े और बहुत शालीन आदमी हैं।प्रिंसिपल चीफ कंजरवेटर ऑफ फॉरेस्ट्स पीएम पधी ने कहा कि अमेरिका में भारतीय दूतावास को इस बारे में बताया जा चुका है। पर्यावरण और वन मंत्रालय भी इस मामले पर नजर बनाए हुए है। पुलिस के प्रतिबंधों की वजह से हम सुरेंद्र महापात्र से बात नहीं कर पाए हैं। एक सीनियर फॉरेस्ट ऑफिसर ने नाम न बताने की शर्त पर कहा सुरेंद्र ने मुझे फोन पर बताया कि उसने कुछ गलत नहीं किया है। उसके कमरे में इंटरनेट की दिक्कत थी। उसे ठीक करने एक महिला आई। वह बिना दिक्कत दूर किए जाने लगी तो सुरेंद्र ने उसे दिक्कत दूर करके जाने के लिए कहा पर्यावरण मंत्री जयंत नटराजन ने इस मामले की पूरी रिपोर्ट तलब की है। सूत्रों ने बताया कि मंत्रालय अधिकारी की हर संभव कानूनी मदद करने के लिए कदम उठा रहा है।