18 February 2019



प्रादेशिक
कैलाश की चर्चा चारो ओर
30-07-2012

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की राह में अनूप मिश्रा के बाद सबसे ज्यादा कांटे कौन बिछाता है इसकी बात की चर्चा इन दिनों सियासी गलियारों में जोरों पर है। कहा जा रहा है कि पहले तो कांग्रेस को दो विधायकों कल्पना तथा राकेश चौधरी की बर्खास्तगी के मामले में उद्योग मंत्री कैलाश विजयवर्गीय समेत कई मंत्रियों ने जमकर मुख्यमंत्री तथा अध्यक्ष को उकसा दिया और बाद में बर्खास्तगी से मुख्यमंत्री और अध्यक्ष खुद  चिंता में पड़ गए क्योकि इस मुद्दे पर पूरी कांग्रेस एक जुट हो गई। बाद में में बहाली के लिए रूपरेखा तय हुई तो यह तय हुआ था कि कोई भी सदन में कुछ नहीं बोलेगा सिर्फ संसदीय कार्य़ मंत्री ही अपना प्रस्ताव रखेंगे लेकिन कैलाश विजयवर्गीय ने तब भी अपना मोर्चा खोलते हुए सदन में कहा कि नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह को  बर्खास्त विधायकों की बहाली के लिए विशेष सत्र बुलाने के लिए अध्यक्ष का धन्यवाद देना चाहिए। यह ऐसा वाक्य था जिससे बनी बनाई बात बिगड़ सकती थी और कांग्रेस के जले पर नमक छिड़कने जैसा था लेकिन अध्यक्ष ने कैलाश की बात पर ध्यान ही नही दिया और संसदीय कार्य़ मंत्री डा. नरोत्तम मिश्रा को ही बोलने का मौका दिया औऱ पांच मिनट में  सत्र की कार्रवाई पूरी कर विवाद निपटा दिया। सियासी गलियारों में चर्चा यह भी है कि कैलाश ने ऐसा क्यो बोला जिससे विवाद हो जाहिर है शिवराज और ईश्वरदास रोहाणी की दिक्कतें ऐसे विवादों से और बढ़ जातीं।