16 February 2019



खेलकूद
टीम इंडिया का पलटवार
30-07-2012

कोलंबो। गौतम गंभीर [102] की शानदार शतकीय पारी और सुरेश रैना [नाबाद 65] की अंतिम समय में खेली गई जोरदार बल्लेबाजी के दम पर टीम इंडिया ने पलटवार करते हुए तीसरे वनडे मैच में श्रीलंका को पांच विकेट से हरा दिया। इसके साथ ही पांच मैचों की सीरीज में भारत की बढ़त 2-1 हो गई है। आर. प्रेमदासा स्टेडियम में खेले गए मुकाबले में कुमार संगकारा [73], एंजेलो मैथ्यूज [नाबाद 71] और महेला जयवर्धने [65] की उपयोगी पारियों की बदौलत श्रीलंका ने 50 ओवर में पांच विकेट पर 286 रन बनाए। जिसके जवाब में गंभीर ने श्रीलंका के खिलाफ छठवां और करियर का 11वां शतक 96 गेंदों में जमाने के अलावा विराट कोहली [31] के साथ शतकीय साझेदारी करते हुए टीम की जीत की पटकथा लिखी। शेष काम रैना ने कर दिया जिससे भारत ने 49.4 ओवर में पांच विकेट खोकर लक्ष्य हासिल कर लिया। गंभीर ने अपनी शतकीय पारी में 101 गेंदों में 10 चौके लगाए। जबकि रैना ने अपनी अविजित पारी में 45 गेंदों में छह चौका व एक छक्का जमाया। रैना ने इरफान पठान [नाबाद 34 रन, 31 गेंद] के साथ पांचवें विकेट के लिए 11.1 ओवर में 92 रनों की साझेदारी की। जवाब में लक्ष्य का पीछा कर रहे भारत को आज भी परेरा ने शुरुआती झटका दे दिया। वीरेंद्र सहवाग आज भी खराब शॉट खेलकर अपना विकेट गंवा बैठे। बाहर जाती गेंद को उन्होंने कवर में ऊपर उठाने की कोशिश में कैच थमा बैठे। सहवाग महज तीन रन ही बना पाए थे। सहवाग के जाने के बाद विराट कोहली ने गंभीर का बखूबी साथ दिया और साझेदारी सौ रन के पार ले गए। दोनों ने दूसरे विकेट के लिए 105 रनों की साझेदारी की। इन दोनों ने श्रीलंका के खिलाफ चौथी बार शतकीय साझेदारी निभाई। श्रीलंका के खिलाफ जमकर खेलने वाले कोहली ने आज धीमी बल्लेबाजी की लेकिन 65 गेंदों में दो चौके के साथ 38 रन बनाकर रंगना हेराथ की गेंद पर कॉट एंड बोल्ड हो गए। गंभीर ने इस बीच 43 गेंदों में अपना अर्धशतक पूरा किया। कप्तान जयवर्धने ने बैटिंग पावरप्ले में मलिंगा को मोर्चे पर लगाया और 36वें ओवर की पहली ही गेंद पर कप्तान धौनी को बोल्ड कर जोरदार झटका दिया। इसके अगली गेंद पर रोहित शर्मा को खाता खोले बगैर ही पगबाधा कर भारतीय खेमे मे हलचल मचा दिया। हालांकि मलिंगा हैट्रिक से चूक गए। गंभीर ने 37वें ओवर की अंतिम गेंद पर एक रन लेकर अपना 11वां शतक पूरा किया। उनकी शतकीय पारी का अंत 39वें ओवर में हुआ जब रन लेने के प्रयास में रन आउट हो गए। इससे पूर्व श्रीलंका ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया था। लेकिन कुल योग में अभी नौ रन ही जुड़े थे कि तिलकरत्ने दिलशान को चार रन के निजी योग पर जहीर खान ने बोल्ड कर पवेलियन भेज दिया। पांचवें ओवर में 19 के कुल योग पर उपल थरंगा [8] भी चल दिए। जहीर की गेंद पर विकेटकीपर धौनी ने विकेट के पीछे उनका कैच लपका। तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करने आए दिनेश चंडीमल तो अपना खाता भी नहीं खोल सके। इरफान पठान ने उन्हे पगबाधा आउट किया। इसके बाद संगकारा और जयवर्धने ने चौथे विकेट के लिए 121 रनों की साझेदारी कर अपनी टीम को मुश्किल परिस्थितियों से बाहर निकाला। 30वें ओवर में जयवर्धने के रूप में श्रीलंका को चौथा झटका लगा। जयवर्धने ने 65 रनों की शानदार पारी खेली। इस दौरान उन्होंने 79 गेंदों का सामना किया और पांच चौके लगाए। रोहित शर्मा की गेंद पर वह पगबाधा आउट हुए। जयवर्धने की जगह लेने आए मैथ्यूज ने संगकारा का अच्छा साथ निभाया। दोनों के बीच पांचवें विकेट के लिए 41 रनों की साझेदारी हुई। 182 के कुल योग पर संगकारा भी चलते बने। उन्होंने 95 गेंदों का सामना किया और 73 रन बनाए। इस दौरान उन्होंने पांच चौके लगाए। उस समय तक लग रहा था कि श्रीलंका की टीम 250 के आंकड़े को पार नहीं कर पाएगी लेकिन एंजेलो मैथ्यूज ने मेंडिस के साथ मिलकर न सिर्फ पारी को आगे बढ़ाया बल्कि उसके बाद बिना कोई विकेट गंवाए टीम का स्कोर 286 तक पहुंचा दिया। मैथ्यूज ने 57 गेंदों पर 71 रनों की तेज पारी खेली। इस दौरान उन्होंने पांच चौके और एक छक्का लगाया। मेंडिस ने 40 गेंदों पर 45 रन बनाए और तीन चौके व एक छक्का लगाया। दोनों ने छठे विकेट के लिए 104 रनों की नाबाद साझेदारी की।