15 February 2019



राष्ट्रीय
कम बारिश वाले जिलों के लिए आपात योजना
31-07-2012

नई दिल्ली.  केंद्र सरकार ने इस मानसून में कम बारिश वाले 320 जिलों के लिए आपात योजना तैयार कर ली है। ऐसी आशंका है कि अगस्त-सितंबर में बारिश 20 प्रतिशत तक कम रह सकती है। कृषि राज्य मंत्री हरीश रावत ने सोमवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि यह आपात योजना केंद्रीय शुष्क भूमि कृषि अनुसंधान संस्थान (क्रिडा) हैदराबाद ने तैयार की है। वे यहां उद्योग परिसंघ पीएचडी चैंबर आफ कामर्स एंड इंडस्ट्री के 'टिकाऊ हरित क्रांति' पर आयोजित एक सम्मेलन में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि मौसम विभाग के अनुसार अगस्त में 80 से 85 फीसद बारिश की उम्मीद है। लगभग 24 मौसम सब डिवीजन प्रभावित हुए हैं। इन क्षेत्रों में बारिश की कमी 20 से 60 प्रतिशत है।पर मौजूदा स्थिति 2009 जैसी खराब नहीं है। देश में 2७ जुलाई की स्थिति के अनुसार बारिश 21 प्रतिशत कम हुई है।सूखे की स्थिति से निपटने के उपाय :- भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) से प्राप्त जानकारी सप्ताह में दो बार उपलब्ध कराई जा रही है।-इसके अलावा वैकल्पिक फसल के बीज के बारे में भी जानकारी दी जा रही है।-सरकार राज्यों को ट्यूबवेल से पानी निकालने के लिए अतिरिक्त बिजली उपलब्ध कराने का प्रयास कर रही है।-इसके लिए राज्यों को अपनी जरूरत के हिसाब से केंद्रीय सहायता इस्तेमाल करने के लिए अधिकृत किया गया है।-पंजाब और हरियाणा को 300 मेगावाट तथा उत्तर प्रदेश को 275 मेगावाट बिजली मंजूर की गई है।