16 February 2019



राष्ट्रीय
असम में सांप्रदायिक हिंसा के लिए बांग्लादेशी प्रवासियों को ठहराया जिम्मेदार
31-07-2012

गुवाहाटी। भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने मंगलवार को असम में सांप्रदायिक हिंसा के लिए बांग्लादेशी प्रवासियों को जिम्मेदार ठहराया है। आडवाणी, असम के दौरे पर है। उन्होंने पत्रकार वार्ता में सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि उसने सही समय पर संकट से निपटने की पहल नहीं की जिस वजह से हिंसा इतनी फैल गई।आडवाणी ने बांग्लादेश से घुसपैठ के लिए भी सरकार को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार और केंद्र सरकार की मिलीभगत से हुई घुसपैठ के परिणामस्वरूप असम के लोग अपनी ही जमीन से नियंत्रण समाप्त होता महसूस कर रहे हैं। वहीं, अवैध बांग्लादेशियों ने बड़े पैमाने पर भूमि पर कब्जा कर लिया है।आडवाणी ने कहा कि राज्य में एक दूसरी बड़ी समस्या जातीय है। बोडो समुदाय अपनी ही जमीन पर हाशिए पर धकेले जाने के खतरे का सामना कर रहे है। उन्होंने राज्य में हो रहे जनसांख्यिकीय बदलाव पर भी चिंता जाहिर की। उन्होंने कहा कि इन्हीं तीन बड़ी दिक्कतों की वजह से ही राज्य को आज यह दिन देखना पड़ रहा है।गौरतलब है कि बोडो और बांग्ला भाषी मुस्लिम प्रवासियों के बीच 19 जुलाई से शुरू हुई सप्ताहभर की हिंसा में 56 लोग मारे जा चुके है और लाखों बेघर हो चुके है। पिछले दिनों प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी भी राज्य में हिंसा ग्रस्त जिलों का दौरा करने के लिए आए थे लेकिन खराब मौसम की वजह से वह हिंसा प्रभावित जिलों तक नहीं पहुंच सके थे। प्रधानमंत्री ने हिंसाग्रस्त जिलों के लिए राहत पैकेज की भी घोषणा की थी।