24 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
रोमानिया के राष्ट्रपति महाभियोग की कार्यवाही से बचें
31-07-2012

लोकतंत्र में वोट न देना भी भ्रष्टाचार में सहयोग दे सकता है। रोमानिया के राष्ट्रपति त्राइयन बासेस्कू सोमवार को महाभियोग की कार्यवाही से बच गए। देशव्यापी रेफरेंडम में लोग वोट देने नहीं आए जिससे उन्हें हटाने के लिए जरूरी 50 फीसदी वोट नहीं मिल पाए। इसे प्रधानमंत्री पोंटा को झटके के रूप में माना जा रहा है। जो बासेस्कू को राष्ट्रपति पद से हटाना चाहते थे।देश की संसद ने जुलाई के शुरू में पद के दुरुपयोग तथा संविधान के प्रावधानों का उल्लंघन करने के आरोप में उनके खिलाफ महाभियोग को मंजूरी दे दी थी। बासेस्कू को राष्ट्रपति पद से निलंबित कर दिया गया था। उपराष्ट्रपति को कार्यवाहक राष्ट्रपति भी बना दिया गया था। रविवार को हुए जनमत संग्रह के नतीजों के अनुसार डाले गए वोटों में 87.55 फीसदी लोगों ने बासेस्कू के खिलाफ महाभियोग के पक्ष में मतदान किया था जबकि केवल 11.12 फीसदी लोग उनके समर्थन में थे। लेकिन जनमत संग्रह में सिर्फ 46.13 फीसदी लोगों ने हिस्सा लिया जबकि संविधान के तहत महाभियोग की कार्रवाई के लिए 50 फीसदी लोगों का शामिल होना अनिवार्य है। नतीजों के बाद बासेस्कू ने कहा कि रोमानिया वासियों ने यूरोप और लोकतंत्र के पक्ष में मतदान किया है।