19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
आतंकवाद पर 2011 की रिपोर्ट जारी
01-08-2012

वाशिंगटन। एक अमेरिकी रिपोर्ट में कहा गया है कि 2011 में दुनिया में सबसे ज्यादा आतंकी हमले अफगानिस्तान, पाकिस्तान और इराक में हुए। इनमें मरने वाले अधिकतर मुसलमान थे। हालांकि वर्ष 2010 के मुकाबले इसमें गिरावट दर्ज की गई है।आतंकवाद विरोधी मामलों के विशेष दूत डेनियल बेंजामिन ने बताया कि 2011 में 70 देशों में दस हजार से अधिक आतंकी हमले हुए। इन हमलों में 12,500 लोग मारे गए। मगर 2010 की तुलना में इस प्रकार के हमलों में 12 फीसद की कमी आई है। आतंकवाद पर 2011 की रिपोर्ट जारी करने के अवसर पर उन्होंने कहा कि बड़ी संख्या में आतंकी हमले होने की खबरें दक्षिण एशिया और पूर्वी एशिया के आसपास के इलाकों से मिली हैं। बेंजामिन ने कहा कि केवल तीन देशों अफगानिस्तान, इराक और पाकिस्तान में सबसे ज्यादा आतंकी हमले हुए। दुनियाभर में आतंकी हमलों में मारे गए लोगों में से 85 फीसद इन्ही देशों से संबंध रखते हैं। विश्व स्तर पर यह आंकड़ा 65 फीसद है। गौर करने वाली बात यह है कि अफगानिस्तान और इराक में 2010 की तुलना में हमलों में कमी आई है। यह कमी अफगानिस्तान के मामले में 14 फीसद और इराक के मामले में 16 फीसद रही। अफ्रीका में 2011 में 978 आतंकी हमले हुए। इसमें 2010 के मुकाबले 11.5 फीसद की बढ़ोतरी हुई। अफ्रीका में इस प्रकार के हमलों के पीछे नाइजीरिया स्थित आतंकी समूह बोको हरम का हाथ रहा, जिसने वर्ष 2011 में ऐसे 136 हमलों को अंजाम दिया। यूरोप और यूरेशिया में आतंकी हमलों में 20 फीसद की कमी दर्ज की गई। इन क्षेत्रों में वर्ष 2010 में 703 और 2011 में 561 हमले हुए।