19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत, अमेरिका का प्रमुख सहयोगी
02-08-2012

लांग बीच [कैलीफोर्निया]। अमेरिकी सीनेटर डाना रोहराबैचर ने बुधवार को कहा कि वैश्विक आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत, अमेरिका का प्रमुख सहयोगी है। उन्होंने आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई और अफगानिस्तान में शांति को बढ़ावा देने में भारत के प्रयासों की प्रशंसा की। कैलीफोर्निया के 46वें जिले का कांग्रेस में प्रतिनिधित्व करने वाले रोहरा बैचर ने कहा, 'वैश्विक आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत, अमेरिका का एक प्रमुख सहयोगी है। हम अफगानिस्तान तथा पूरे क्षेत्र की स्थिरता के लिए वहां महत्वपूर्ण सेवाएं मुहैया कराने के भारत कदम का स्वागत और समर्थन करते है।'रोहराबैचर के अनुसार, भारत और अमेरिका, दोनों ने सुरक्षा व आतंकवाद से मुकाबला जैसे क्षेत्रों में अपने सहयोग के आपसी लाभ को समझ लिया है और यह रुझान आने वाले समय में और मजबूत होगा। उन्होंने कहा, 'हम [भारत व अमेरिका] शीत युद्ध के कारण सहयोगी नहीं बने है। शीत युद्ध 20 वर्ष पहले समाप्त हो गया था और अब शक्ति का पलड़ा पूरब की ओर झुक गया है। भारत व अमेरिका का सहयोग और बढ़ेगा।'सीनेटर ने, भारतीय वायुसेना के लिए बोइंग द्वारा तैयार किए जा रहे 10 सी-17 विमानों में से पहले विमान के हिस्सों को एक साथ जोड़ने के लिए आयोजित एक समारोह के मौके पर बात की। यह समारोह लाग बीच पर स्थित बोइंग की इकाई में आयोजित किया गया था।पिछले वर्ष जून में रक्षा मंत्रालय ने अमेरिकी सरकार के विदेश विभाग के बिक्री प्रावधानों के तहत 10 सी-17 एयरलिफ्टर खरीदने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किया था। प्रथम विमान के भारतीय वायुसेना में 2013 के मध्य तक शामिल किए जाने का अनुमान है।रोहराबैचर ने कहा कि सी-17 जैसी सैन्य प्रणालियां आतंकवाद के खतरे से हिफाजत करने में भारत की मदद करेगी। सान फ्रांसिस्को में भारतीय महावाणिज्यदूत एन. पार्थसारथी ने रोहराबैचर के विचार से सहमति जताई। उन्होंने कहा कि भारत और अमेरिका के बीच बढ़ रहे रक्षा संबंध दोनों देशों द्वारा हासिल की गई आपसी समझ की गहराई का एक संकेत हैं।पार्थसारथी ने कहा, '10 वर्ष पहले कोई भी कल्पना नहीं कर सकता था कि हम सहयोग के इस स्तर पर पहुंच जाएंगे। इसे शुरुआत मानिए और इस रिश्ते में ढेर सारी संभावनाएं है। यह विमान भारत के लिए एक बड़ी पूंजी है। मैं अधिक सहयोग की अपेक्षा रखता हूं।'