19 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
अमेरिकी गुरुद्वारे में हुई गोलीबारी
06-08-2012

वाशिंगटन। अमेरिका के विसकंसिन राज्य में रविवार को एक गुरुद्वारे में हुई गोलीबारी की घटना में सात श्रद्धालु मारे गए और 20 अन्य घायल हो गए हैं। घटना में सुरक्षा बलों के हाथों दो हमलावर भी मारे गए। अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने इस घटना को निंदनीय बताते हुए कहा कि अमेरिका में इस तरह की किसी घटना को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने इस मुद्दे पर शीर्ष अधिकारियों के साथ एक आपात बैठक भी की है। वहीं, भारत ने इस घटना पर अफसोस जताते हुए अमेरिकी स्थित भारतीय दूतावास से रिपोर्ट मांगी है। भारतीय राजदूत निरुपमा राव ने घटना में मारे गए लोगों के परिजनों को काउंसिलिंग में मदद का आश्वासन दिया है। इस बीच, घटना की जांच में जुटी एफबीआई ने इसे एक आतंकी घटना माना है।गौरतलब है कि रविवार को दो हमलावर गोलिया बरसाते हुए ओकक्रीक स्थित गुरुद्वारे में घुस गए और वहा मौजूद 200 से अधिक लोगों को बंधक बना लिया। हमलावरों द्वारा की गई अधाधुंध फायरिंग में सात श्रद्धालुओं की मौके पर ही मौत हो गई। इसके बाद मौके पर पहुंचे सुरक्षा बलों ने गुरुद्वारे को घेर लिया और मुठभेड़ में दोनों हत्यारों को मार गिराया। अमेरिकी मीडिया के मुताबिक विसकंसिन के सबसे बड़े शहर मिलवाकी के दक्षिण में स्थित ओक क्रीक इलाके में गोलीबारी की यह घटना स्थानीय समयानुसार सुबह 11 बजे घटी। एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि उसने दो हैंडगन लिए एक हमलावर को गुरुद्वारे में जाते देखा था। मजबूत कदकाठी के दिखने वाले इस व्यक्ति ने टीशर्ट पहन रखी थी। भारतीय विदेश मंत्री एसएम कृष्णा ने घटना पर चिंता जताई है। उन्होंने अमेरिका में भारतीय राजदूत निरुपमा राव से घटना की जानकारी ली। गत 20 जुलाई को कोलोराडो के डेनवर शहर में एक सिरफिरे ने सिनेमा हॉल में अधाधुंध गोलिया बरसाकर 12 लोगों की जान ले ली थी।