17 February 2019



प्रमुख समाचार
संपत्ति का ब्यौरा न देने वाले आईएएस अफसरों का इंक्रीमेंट रुकेगा
07-08-2012

केंद्रीय कार्मिक मंत्रालय ने उन आईएएस अफसरों की खबर लेने की ठान ली है जिन्होंने संपत्ति तो कमाई लेकिन अपनी संपत्ति का ब्यौरा सरकार को देने में दो साल से आनाकानी कर रहें हैं। जाहिर इनमें अरबों कमाने वाले टीनू जोशी और अरविंद जोशी टाइप भ्रष्टाचार के नमूने भी हैं। वहीं कुछ कथित ईमानदार अफसर भी हैं जिन्हें लगता है कि अंग्रेजों के जाने के बाद सारी जिम्मेदारी उन्हीं के कंधे पर है कि वे जिसे चाहें जानकारी दें जिसे चाहें न दें। क्योंकि वे आईएएस हैं। आईए सबसे पहले जान लें उन आईएएस अफसरों के नाम जिन्होंने अपनी सपंत्ति का ब्यौरा केंद्रीय कार्मिक मंत्रालय को नहीं दिया है। इन अफसरों के खिलाफ मंत्रालय ने इंक्रीमेंट रोकने का फरमान जारी कर दिया है। जिन आईएएस अफसरों ने नहीं दिए संपत्ति के ब्यौरे उनके नाम हैं.  टीनू जोशी., अरविंद जोशी, एंटोनी जेसी डिसा, मनोज झालानी, कृष्णपाल सिंह, अजय तिर्की, राजीव रंजन अजीत केसरी, एमके वाष्णेय, विनोद कुमार कटेला, फैज अहमद किदवई, अजात शत्रु श्रीवास्तव, राजकुमारी खन्ना, विनोद सिंह बघेल, अनिल कुमार यादव, केदार लाल शर्मा, संतोषकुमार मिश्रा, शोभित जैन, विवेक कुमार पोरवाल, कैलाश चंद्र जैन, लक्ष्मीकांत द्विवेदी, महेश चंद्र चौधरी, रजनीश श्रीवास्तव,प्रमोद कुमार गुप्ता, रघुराज एमआर, लोकेश कुमार जाटव, जीवी रश्मि, शशांक मिश्रा, स्वतंत्र कुमार सिंह, अविनाश लवानियां आदि.. अब मुद्दे की बात पर आते हैं। जिस तरह हमारे इन महानुभाव आईएएस अफसरों ने अपनी संपत्ति के ब्यौरे नहीं दिए वैसा ही कृत्य यदि कोई अदना अधिकारी या कर्मचारी करता तो ये महानुभाव ही शासकीय सेवा आचरण की पूरी किताब रटा देते और कानून का पालन करने हिदायत देते लेकिन ये सभी कानून से ऊपर नजर आते हैं इसीलिए अपनी संपत्ति का ब्यौरा देने में इन्हें हिचक महसूस होती है। बीजेपी कहती है कि आईएएस अफसरों को अपनी संपत्ति का ब्यौरा समय से नियमानुसार देना चाहिए । कांग्रेस नेताओं का कहना है कि अपनी संपत्ति वही छिपाता है जो भ्रष्ट होता है यदि आईएएस अफसर भ्रष्ट नहीं हैं तो उन्हें संपत्ति छिपाने या समय से सरकार को जानकारी देने में क्या प्राबलम है।  हालांकि जिन अफसरों के नाम केंद्रीय कार्मिक मंत्रालय ने जारी किए हैं उनमें कुछ तो ऐसे भी हैं जिन्होंने आन लाइन अपनी जानकारी दे दी है लेकिन इनकी जानकारी कहां आफ लाइन हो गई ये खुद इन्हें भी नहीं मालूम।