24 February 2019



अंतरराष्ट्रीय
पाक के पीएम सुप्रीम कोर्ट में तलब
08-08-2012

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने अदालत की अवमानना के आरोप में प्रधानमंत्री राजा परवेज अशरफ को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। अदालत ने उन्हें 27 अगस्त को व्यक्तिगत रूप से पेश होकर राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामलों को दोबारा खोलने के आदेश पर अमल न करने का स्पष्टीकरण देने को कहा है। जस्टिस सईद खोसा की अध्यक्षता में पांच सदस्यीय पीठ ने कहा कि प्रधानमंत्री को अदालत के आदेश का पालन करना चाहिए और जरदारी के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामलों को दोबारा खोलने के लिए स्विस अधिकारियों से संपर्क करना चाहिए। मगर सरकार ने लगातार और जानबूझ कर उसके आदेश की अवहेलना की। जस्टिस खोसा ने कहा कि अगर 27 अगस्त को अगली सुनवाई तक मामले में प्रगति होती है तो बेहतर है वरना सुप्रीम कोर्ट खुद कार्रवाई करेगा। इसी मामले में अदालत ने यूसुफ रजा गिलानी को अवमानना का दोषी करार देते हुए उन्हें प्रधानमंत्री पद के लिए अयोग्य ठहराया था। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि गिलानी ने जानबूझ कर अदालती आदेशों का उल्लंघन किया और जरदारी के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए स्विस अधिकारियों को पत्र नहीं लिखा। अशरफ भी उन्हीं की राह पर चल रहे हैं। अटार्नी जनरल इरफान कादिर ने अदालत से अधिक समय मांगते हुए कहा कि मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए सुनवाई सितंबर के पहले सप्ताह तक स्थगित कर देनी चाहिए। मगर पीठ ने उनके आग्रह को अस्वीकार कर दिया। इसी से जुड़े एक अन्य घटनाक्रम में सरकार ने याचिका दायर करके अदालती अवमानना कानून को रद किए जाने के सुप्रीम कोर्ट के आदेश की समीक्षा की मांग की है। इस कानून में शीर्ष नेताओं को अदालती अवमानना से मुक्त रखने का प्रावधान किया गया था। सरकार के वकील अब्दुल शकूर पराचा ने बताया कि यह अपील बुधवार को दायर की गई।